ये खाना नहीँ जहर है

कहीँ अपने बच्चोँ को जहर तो नहीँ परोस रहे आप

अक्सर देखने मेँ आता है कि कामकाजी महिलाएँ या अकेले रह रहे आदमी अपना समय बचाने के लिए शाम का खाना भी दिन मेँ ही बना लेते हैँ। और जब शाम को वह थककर वापिस आते हैँ तो उसी खाने को गर्म करके खा लेते हैँ। आमतौर पर लोग दिनभर की थकान के बाद रात को खाना बनाने का झंझट नहीँ करना चाहते। भले ही यह आदत आपका समय व मेहनत बचाती हो लेकिन अपनी इसी आदत के कारण आप न सिर्फ खुद की बल्कि अपने बच्चोँ के सेहत के साथ भी खिलवाड कर रहे हैँ। दरअसल, कुछ खाने ऐसे होते हैँ, जिन्हेँ कभी भी दोबारा गर्म करके नहीँ खाना चाहिए। तो आईए जानते हैँ कुछ ऐसे ही भोज्य पदार्थोँ के बारे मेँ-

मशरूम

वैसे तो मशरूम मेँ प्रोटीन काफी मात्रा मेँ पाया जाता है। लेकिन यह आपके शरीर के लिए तभी फायदेमन्द है, जब आप इसे बनाने के बाद जल्द ही खा लेँ। ध्यान रखेँ कि आप उतनी ही मशरूम की सब्जी बनाएँ, जितनी आपको एक समय मेँ खानी है। मशरूम को दोबारा गर्म करने से न सिर्फ पाचन शक्ति पर विपरीत प्रभाव पडता है, बल्कि इससे ह्रदय सम्बन्धी बीमारी होने का भी खतरा रहता है। अगर आपका सुबह से समय बनाया मशरूम थोडा बच भी गया है तो आप शाम को उसे खा सकते हैँ, लेकिन गर्म करके नहीँ।

पालक

अन्य पत्तेदार सब्जियोँ की तरह ही पालक मेँ भी आयरन और नाइट्रेट भरपूर मात्रा मेँ पाया जाता है। लेकिन अगर आप इसे दोबारा गर्म करके खाते हैँ तो यह नाइट्रेट नाइट्राइट व कार्सिनोजन मेँ बदल जाता है। शायद आपको पता न हो लेकिन कार्सिनोजन से मनुष्य को कैंसर होने का डर रहता है।

अंडे

वैसे तो अंडे प्रोटीन का पावरहाउस होते हैँ। इसलिए इन्हेँ नाश्ते मेँ प्रयोग करना एक अच्छा ऑप्शन है। लेकिन अंडे को बार-बार हीट के सम्पर्क मेँ नहीँ लाना चाहिए। अंडोँ को बॉयल करने या फ्राई करने के बाद अगर हाई टेम्परेचर पर रिहीट किया जाए तो इससे वह विषाक्त हो जाते हैँ।

शलगम

शलगम एक ऐसी सब्जी है, जिसे हम सभी आमतौर पर अपने सूप व स्ट्यू मेँ इस्तेमाल करते हैँ। दरअसल, इसमेँ नाइट्रेट काफी मात्रा मेँ पाया जाता है, इसलिए इसे दोबारा गर्म करना ठीक नहीँ माना जाता। ऐसा करने से इसके विषाक्त होने का खतरा बना रहता है।

तेल

खाने मेँ हम लोग बहुत तरह के तेल इस्तेमाल करते हैँ। हर तेल के अपने अलग गुण होते हैँ। आमतौर पर घरोँ मेँ देखने आता है कि महिलाएँ डीप फ्राई करने के लिए कुकिंग ऑयल का इस्तेमाल करती हैँ और बचे हुए तेल को बार-बार इस्तेमाल किया जाता है। ऐसा करना स्वास्थ्य के लिहाज से बिल्कुल भी उचित नहीँ माना जाता।

चावल

चावल को दोबारा गर्म करने से ज्यादा जरूरी है उसे सही तरीके से संग्रहीत करना। अगर आप चावल को रूम टेम्परेचर पर ही छोड देते हैँ, तो इससे चावल मेँ विषाणु न सिर्फ जन्म लेते हैँ, बल्कि कई गुणा बढ भी जाते हैँ। जिसके कारण आपको उल्टी या दस्त जैसे समस्या का सामना करना पड सकता है। फिर चाहे आप चावल को दोबारा गर्म भी कर लेँ लेकिन आप इन विषाणुओँ से छुटकारा नहीँ मिलेगा।

“लीची खाने से हो सकती है मौत, जानिए कैसे”
“हमेशा स्वस्थ रहना चाहते हैं तो अपनाएं ये अच्छी आदतें”
“अपनाएं ये नुस्खे, घर से तुरंत भाग छूटेंगे छिपकली कॉकरोच जैसे जीव”

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment