टॉप 10 हैकर जिन्होंने किये ऐसे कारनामों की हिल गई पूरी दुनिया

आज तकनीकी का दौर है और इस दौर में युद्ध भी हथियारों से नहीं बल्कि तकनीक से लड़े जा रहे हैं लेकिन तकनीक बनाने वाले और इस्तेमाल करने वाले भी इंसान ही है। इनमे से कुछ शैतानी और खुराफाती दिमाग वाले लोग जो तकनीक में माहिर है वह लोग कई सिक्योरिटी को तोड़कर सैंध मारते हैं जिन्हें कंप्यूटर की दुनिया में हैकर्स कहा जाता है। आज हम आपको दुनिया के कुछ ऐसे ही सबसे बड़े हैकर्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने हैकिंग के मामले में अमेरिका की सबसे बड़ी खुफिया और सुरक्षा सर्विस एजेंसी एफबीआई को भी नहीं बख्शा, इनके कारनामे देख पूरी दुनिया हिल गई। आइए जानते हैं इन टॉप 10 हैकर के बारे में।

1. जोनाथन जेम्स – जोनाथन जेम्स हैकर्स की दुनिया का जाना माना नाम है। इन्हें इंटरनेट की दुनिया का “कामरेड” भी कहा जाता है। इन्होंने मात्र 15 साल की उम्र में ऐसे ऐसे कारनामे किए कि इनका नाम दुनिया के सबसे बड़े हैकर्स की लिस्ट में शुमार हो गया। इतनी छोटी उम्र होने के बावजूद इन्होंने अमेरिकी सरकार की नाक में दम कर दिया। जोनाथन ने अमेरिकी सरकार के लगभग सभी दस्तावेजों पर अपना कब्जा जमा लिया था। इतना ही नहीं इन्होने रक्षा विभाग और नासा के नेटवर्क को भी अपने काबू में कर लिया था। जेम्स ने नासा के नेटवर्क से को हैक कर अंतरिक्ष स्टेशन संचालन की पूरी जानकारी हासिल कर ली थी। इनके इस कारनामे के चलते नासा को मजबूरन अपने नेटवर्क को 3 हफ्ते तक बंद रखना पड़ा था। पुलिस कई समय से जोनाथन को पकड़ने की फिराक में थी और 2007 में पुलिस जोनाथन को पकड़ने में कामयाब भी रही और इन पर कई आरोप लगे। जेम्स ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया और 2008 में जोनाथन ने खुदकुशी कर ली।

2. केविन मिटनिक – केविन मिटनिक अमेरिका के मोस्ट वांटेड साइबर क्रिमिनल रह चुके हैं और इन्होंने ऐसे-ऐसे कारनामों को अंजाम दिया है कि इन पर दो हॉलीवुड फिल्में भी बन चुकी है। इन्हें इनके हैकिंग के कारनामों के चलते 3 साल की जेल हुई और इन्हें अगले 3 साल के लिए निगरानी में रखे जाने पर रिहा किया गया। लेकिन केविन ने बाहर आने के बाद भी अमेरिका के नेशनल सिक्योरिटी अलर्ट प्रोग्राम को हैक किया इसके अलावा कई कॉरपोरेट सीक्रेट्स पर भी हैकिंग कर अपना कब्जा जमा लिया जिस कारण इन्हें फिर से 2.5 साल के लिए जेल की सजा सुनाई गई। लेकिन 5 साल जेल में रहने के बाद केविन ने अपने आप में बदलाव किए और फिर वह हैकिंग छोड़कर एक कंसलटेंट बन गए और लोगों को कंप्यूटर सिक्योरिटी के टिप्स और जानकारियां देने लगे। अब केविन की खुद की कंपनी है जिसे वह खुद ही संचालित करते हैं और साइबर सिक्योरिटी की ओर काम कर रहे हैं।

3. अल्बर्ट गोंजालेज – अल्बर्ट गोंजालेज के शातिर दिमाग का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि इन्होंने अमेरिका की आधी आबादी के क्रेडिट कार्ड हैक कर लिए थे। इन्होंने करीब 17 करोड लोगों के क्रेडिट और डेबिट कार्ड की जानकारी बेचकर करोड़ों की कमाई की। अल्बर्ट ने शैडोक्यूस नाम का अपना एक ग्रुप बनाकर कई फर्जी पासपोर्ट, फर्जी हेल्थ इंश्योरेंस कार्ड और फर्जी जन्म प्रमाणपत्र जैसे कई फर्जी दस्तावेज बेच कर मोटी रकम कमाई। अल्बर्ट गोंजालेज के ऐसे ऐसे कारनामों के चलते इन्हें पकड़े जाने के बाद इस 20-20 साल की दो सजा सुनाई गई और अल्बर्ट फिलहाल यह सजाएं साथ-साथ में काट रहे हैं।

4. केविन पॉलसन – एक बार एक रेडियो स्टेशन ने एक शो का आयोजित किया जिसमें विजेता को पोर्श कार देने का इनाम रखा गया। इस शो को जीतने के लिए केविन ने रेडियो स्टेशन का पूरा सिस्टम ही हैक कर लिया और करीब 15 मिनट तक आने वाली सभी फोन लाइन पर अपना कब्जा जमा लिया और शो जीत लिया जिसकी एवज में इन्हें पोर्श कार मिली। लेकिन इनके इस कारनामें पर एफबीआई को शक हुआ तो केविन ने एफबीआई को भी नहीं बख्शा और एफबीआई के पूरे सिस्टम को हैक कर लिया। इसके अलावा पॉलसन ने एक सुपरमार्केट के पूरे सिस्टम को हैक कर अपना कब्ज़ा जमा लिया। इसके लिए 51 महीने जेल में रहना पड़ा। लेकिन इस सजा के पूरा होने के बाद केविन ने हैकिंग छोड़ पत्रकारिता शुरू कर दी और फिलहाल ये वायर्ड न्यूज का वरिष्ठ संपादक हैं। आगे चलकर केविन के दिमाग को अमेरिकी पुलिस ने भी अपनी मदद के लिए काम लिया और केविन के साथ मिलकर सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट ‘मायस्पेस’ पर सक्रिय 744 यौन अपराधियों की पहचान की।

5. गैरी मैकिनॉन – गैरी ने दुनिया में सबसे बड़े सैन्य ऑपरेशन के सिस्टम को हैक कर पूरी दुनिया को चौंका दिया इनके इसी कारनामे के चलते इन्हे “सोलो” नाम मिला। गैरी अमेरिकी सेना और नासा के 97 कंप्यूटरों को भी हैक करने का कारनामा कर चुके हैं। गैरी के अनुसार उसने यूएफओ और सौर ऊर्जा पर नियंत्रण के उपाय ढूंढने के लिए ऐसा किया लेकिन अमेरिकी अधिकारियों का कहना था की गैरी ने करीब 300 कंप्यूटरों को हैक किया था और कई संवेदनशील फाइलों को डिलीट कर दिया जिस कारण अमेरिकी सरकार को 70 लाख डॉलर का चूना लगा। इस मामले में गैरी पिछले 15 साल से अमेरिकी सरकार के खिलाफ अपना मुकदमा लड़ रहा है।

6. जीनसन जेम्स एंचेता – जीनसन वायरस बनाने में माहिर हैं और इन्होने 2004 में ऐसा ही एक वायरस बनाया जिसे किसी कंप्यूटर में डाला जाये तो वो उस कंप्यूटर की सभी लॉग-इन डिटेल्स हैक कर लेता है। इसी के चलते जीनसन ने करीब 5 लाख कंप्यूटरों को हैक कर उनकी सभी लॉग-इन डिटेल्स हासिल की। जीनसन 10वीं फेल होने के बावजूद हैकिंग के गुरु हैं और अपनी इसी काबिलियत के चलते इन्होने कई वेबसाइट हैक कर उनके मालिकों से मोटी कमाई की। लेकिन आगे चलकर ये पकडे गए और इन्हे 5 साल की जेल हुई।

7. जॉर्ज हॉट्ज – जॉर्ज हॉट्ज वैसे तो काफी शातिर हैकर्स की गिनती में आते हैं लेकिन इन्होने अपने हैकिंग के हुनर को कभी गलत कामों में इस्तेमाल नहीं किया। जॉर्ज हमेशा तकनीकी खामियों को तलाश कर उन्हें कंपनियों को ठीक करने के लिए सूचित करते थे। जॉर्ज एप्पल कंपनी के आईफोन के लगभग हर मॉडल का तोड़ निकाल चुके हैं और अपने ब्लॉक पर भी छापा। इन्होने अपने ब्लॉग पर आईफोन, आईपैड और आईपॉड की कमियों को सार्वजानिक कर दिया। लेकिन एप्पल कंपनी इनकी इस हरकत से खासी नाराज हो गई और इन पर मुकदमा दायर कर दिया। लेकिन जॉर्ज और एप्पल कंपनी ने कोर्ट के बाहर ही सुलह कर इस मामले को निपटा लिया।

8. एड्रियन लामो – एड्रियन लामो का बचपन बेहद गरीबी में बीता लेकिन एड्रियन दिमाग का काफी तेज रहा है एड्रियन पब्लिक इंटरनेट कनेक्शन का इस्तेमाल कर कई कंपनियों के सुरक्षा संबंधित दस्तावेज हैक कर लेता था इसी कारण एड्रियन को होम लेस हैकर भी बोला जाता है। एड्रियन न्यूयॉर्क टाइम्स और माइक्रोसॉफ्ट जैसी कंपनियों के सिक्योरिटी सिस्टम भी हैक कर चुका है। हैकिंग के मामले में अमेरिकी कोर्ट ने एड्रियन से $65000 जुर्माने के तौर पर वसूले और 6 महीने की सजा सुनाई इसके अलावा एड्रियन को 2 साल प्रोबेशन पीरियड में भी रखा गया। फिलहाल एड्रियन ने हैकिंग छोड़कर पत्रकारिता के पेशे में उतर गया और साथ ही लोगों को हैकिंग से संबंधित टिप्स भी देता है।

9. रॉबर्ट टप्पन मॉरिस – रॉबर्ट टप्पन मॉरिस अमेरिका के नेशनल कंप्यूटर सिक्योरिटी सेंटर के मुख्य विज्ञानी रहे रॉबर्ट मॉरिस की ही संतान है और अपने पिता की तरह इसका दिमाग भी काफी तेज है। रॉबर्ट टप्पन मॉरिस वही शख्स है जिसने कंप्यूटर का सबसे पहला वायरस बनाया और कंप्यूटर फ्रॉड केस में सबसे पहले सजा पाने वाला व्यक्ति भी रॉबर्ट टप्पन मॉरिस ही है। रॉबर्ट टप्पन मॉरिस जब कॉर्नेल विश्वविद्यालय में पढ़ाई कर रहे थे उसी समय इन्होंने मॉरिस वायरस बनाया जिसने कई कंपनियों को बड़े नुकसान पहुंचाए। इसके लिए रॉबर्ट टप्पन मॉरिस को 3 साल की जेल भी हुई। लेकिन अब रॉबर्ट टप्पन मॉरिस हैकिंग की दुनिया से निकल कर मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में प्रोफेसर के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

10. ओवेन वॉकर – ओवेन वॉकर बचपन से ही शातिर दिमाग के रहे हैं, 18 वर्ष से भी कम उम्र में ओवेन ने दुनिया भर के हैकर्स के साथ अंतर्राष्ट्रीय ग्रुप बना लिया था। ओवेन वॉकर ने इतनी छोटी उम्र में एक्बॉट नामक वायरस बना लिया था जिससे करीब 13 लाख कंप्यूटर प्रभावित हुए थे जिससे करीब 2 करोड़ 60 लाख डॉलर का नुकसान हुआ था। हैकिंग के चलते इनके एक्बॉट वायरस से पेंसिलवेनिया विश्वविद्यालय के कई कंप्यूटर भी क्रैश हो गए थे। इनको रोकने के लिए एफबीआई ने न्यूज़ीलैंड सरकार के साथ मिलकर कई बड़े ऑपरेशन चलाए और फिर ओवेन वॉकर पकड़े गए। हालांकि अप्रैल 2008 में कोर्ट ने इन्हें अपराधी करार ना देते हुए बाइज्जत बरी कर दिया। कोर्ट के अनुसार ओवेन ने कभी अपराधिक इरादे से किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है। वह सिर्फ अपने मजे के लिए यह सब कर रहे थे और अगर इन्हें इतनी कम उम्र में सजा दी जाती है तो इनका कैरियर और भविष्य दाव पर लग जाएगा। फिलहाल ओवेन वॉकर एक ऑस्ट्रेलियन टेलीकम्यूनिकेशन कंपनी में सिक्योरिटी डिवीजन के हेड के तौर पर काम कर रहे हैं।

“टॉप 10 देश जहां आज भी हैं सबसे ज्यादा गुलाम”
“दुनिया की टॉप 10 यूनिवर्सिटी”
“सबसे ज्यादा कमाई करने वाली टॉप 10 बॉलीवुड फिल्में”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment