प्राकृतिक स्वर्ग गोवा में देखने लायक स्थान

2162

गोवा एक हराभरा प्राकृतिक स्वर्ग है जो कि सहयाद्री श्रृंखला की तलहटी में अरब सागर के किनारे बसा है।

गोवा भारत के पश्चिमी तट पर नीले पानी से घिरी एक छोटी सी भूमि है। अपनी नैसर्गिक प्राकृतिक सुंदरता, आकर्षक समुद्र तटों, मशहूर वास्तु मंदिरों, भव्य पार्टियों और त्यौहारों और अपनी समृद्ध एंग्लो-भारतीय विरासत के कारण यह सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करता है। सबसे महत्वपूर्ण और रुचिकर जगहों में गोवा के समुद्र तट हैं जिसे देखने हर साल हजारों सैलानी पूरी दुनिया से यहां आते हैं। सैलानी इस प्रकृति के स्वर्ग में सुहावनी धूप और साफ और चमचमाते समुद्री पानी का आनंद लेने आते हैं।

यहां आप मुंह में पानी लाने वाले स्वादिष्ट कोंकणी और गोवन व्यंजनों का मज़ा ले सकते हैं, जैसे चिकन रिकाडो और साथ ही समुद्र तट पर रात में होने वाली शानदार पार्टियों का मज़ा ले सकते हैं। यहां सैलानियों को लुभाने के लिए कई तरह के तट हैं, जैसे पथरीले और रेतीले और चांदी सी रेत वाले विशाल तट जो कि बहुत लुभावना नजारा देते हैं।

गोवा में देखने के लिए जगहें :-

कंडोलिम समुद्र तट
गोवा राज्य में पणजी से 14 किलोमीटर दूर उत्तर में स्थित कंडोलिम तट अरब सागर की लंबी तटरेखा का एक हिस्सा है। यह तटरेखा अगोडा किले से शुरु होकर चापोरा बीच पर खत्म होती है। यह जगह गोवा के एक स्वतंत्रता सेनानी और सम्मोहन के जनक अब्बा फारिया का जन्मस्थान होने के कारण भी मशहूर है।

मीरामार समुद्र तट
मीरामार समुद्र तट अरब सागर और मंडोवी नदी के संगम से 1 किलोमीटर आगे स्थित है। यह गोवा की राजधानी पणजी से 3 किलोमीटर दूर डोना पाउला के रास्ते पर है। गोवा के मीरामार समुद्र तट को ‘गैस्पर डाया’ भी कहा जाता है।

गोवा में मीरामार समुद्र तट खाड़ी से शुरु होकर एम्राल्ड कोस्ट पार्कवे पर खत्म होता है। इस सुनहरे समुद्र तट के किनारों पर खजूर के पेड़ लगे हैं। इस तट की नर्म रेत इसे शाम में टहलने के लिए सबसे सही जगह बनाती है। पुर्तगाली भाषा में मीरामार का मतलब होता है ‘समुद्र को देखना’। सैलानी गोवा के मीरामार समुद्र तट से विशाल अरब सागर का नजारा ले सकते हैं।

मजोरदा समुद्र तट
मजोरदा समुद्र तट बोगमोला के दक्षिणी भाग में स्थित है। यह गोवा के सबसे सुंदर तटों में से एक है और डाबोलिम हवाई अड्डे से 18 किलोमीटर की दूरी पर है। गोवा का मजोरदा समुद्र तट सड़क के बेहतरीन नेटवर्क के कारण मडगाव से भी जुड़ा है जिसमें बस, आॅटो रिक्शा और टैक्सी भी शामिल हैं।

गोवा के मजोरदा समुद्र तट का भारतीय पौराणिक कथाओं से भी करीबी नाता है। माना जाता है कि भगवान राम का बचपन में अपहरण हो गया था और उन्हें मजोरदा समुद्र तट ही लाया गया था। यह भी कहा जाता है कि भगवान राम अपनी पत्नी सीता को खोजते हुए आए थे। कहा जाता है कि इस तट के दक्षिणी भाग में स्थित काबो-डे-रामा में भगवान राम आए थे।

मोबोर समुद्र तट
रोमांच पसंद करने वाले सैलानियों के लिए मोबोर समुद्र तट एक आदर्श स्थान है। यह गोवा के सबसे लोकप्रिय तटों में से एक है जहां सैलानी कई रोमांचक खेलों, जैसे वाॅटर स्कीइंग, वाॅटर सर्फिंग, जेट स्की, बनाना और बम्प राइड और पैरासिलिंग का मज़ा लेते हैं। इस तट पर पूरे साल में कभी भी घूमने जाया जा सकता है, हालांकि यहां घूमने आने का सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च तक का है।

गोवा में मोबोर समुद्र तट शहर का सबसे लोकप्रिय स्थल है। हर साल हजारों सैलानी इस तट पर पानी के खेल के मज़े लेने आते हैं। वास्तव में केवलोसियम-मोबोर पानी के खेलों के लिए मशहूर है।

कोल्वा समुद्र तट
कोल्वा समुद्र तट मडगाव से 6 किलोमीटर पश्चिम में स्थित है और यह सबसे पुराना, बड़ा और और दक्षिण गोवा का सबसे शानदार समुद्र तट है। इस तट पर 25 किलोमीटर बारीक और सफेद रेत फैली है और इसके किनारों पर नारियल और खजूर के पेड़ हैं जो कि उत्तर में बोगमालो से लेकर दक्षिण में काबो-डि-रामा तक फैले हैं।

औपनिवेशिक दिनों में यह मडगाव के उच्च समाज के लिए आरामगाह का इलाका था। यह लोग सिर्फ हवा बदलने के लिए कोल्वा का दौरा करते थे। आज के समय में यह इलाका, जिसमें खूबसूरत घर और विला हैं उस उच्च वर्ग की विलासितापूर्ण जीवनशैली की याद दिलाता है।

अंजुना समुद्र तट
पणजी से 18 किलोमीटर दूर बर्देज़ तालुका में स्थित अंजुना तट अरब सागर के किनारे गोवा के पश्चिमी तट पर 30 किलोमीटर में फैली लंबी तटरेखा का एक हिस्सा है।

अंजुना गांव पांच वर्ग मील में इलाके में फैला है और अरब सागर और पहाड़ी के बीच समुद्र तट की ओर बसा है। यह तट अपनी प्राकृतिक सुंदरता, लहराते खजूर के पेड़ और नर्म सफेद रेत के लिए मशहूर है।

वर्का समुद्र तट
वर्का समुद्र तट गोवा के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। यह गोवा के सबसे आकर्षक और खूबसूरत तटों में से एक है और बिनोलिम से 2 किलोमीटर की दूरी पर है। इस तट पर बड़ी संख्या में लकड़ी की नाव होती हैं जो शहर के मछुआरों की होती हैं।

गोवा में वर्का समुद्र तट अपनी नर्म सफेद रेत और सफाई के लिए मशहूर है। यह गोवा के सबसे साफ तटों में से एक है और सैलानी यहां एकांत में कुछ खास समय बिताते हैं।

सिंक्वेरियम समुद्र तट
गोवा का सिंक्वेरियम समुद्र तट पणजी से 13 किलोमीटर दूर स्थित है और बहुत खूबसूरत होने के साथ साथ गोवा के अन्य तटों के मुकाबले बहुत शांत है। यह लंबा और विस्तारित रेतीला क्षेत्र तट के साथ साथ दूर तक जाता है और लंबी चहलकदमी के लिए बिलकुल आदर्श है। चमकती रेत और ठंडे पानी के पैरों को छूने का अहसास शानदार है। यह तट रेत के शांत और खूबसूरत क्षेत्र का हिस्सा है और तैराकी के लिए आदर्श स्थान है। सैलानी इस तट पर इसकी शांति और सुंदरता के लिए आना पसंद करते हैं। गोवा का यह सुंदर सिंक्वेरियम समुद्र तट सबसे पुराने संरक्षित किये हुए तटों में से एक है। मशहूर अगोडा किला इसी तट के पास स्थित है। अगोडा किले का निर्माण पुर्तगालियों ने 17वीं सदी की शुरुआत में करवाया था। यह पुर्तगाली किला पुर्तगालियों ने खुद को किसी भी विदेशी हमले से बचाने और मंडोवी नदी से किसी भी तरह के घुसपैठियों का प्रवेश रोकने के लिए बनाया था।

वागातोर बीच
वागातोर बीच मापुसा रोड के पास उत्तर गोवा में राज्य की राजधानी पणजी से 22 किलोमीटर दूर स्थित है और यह गोवा के अन्य तटों के मुकाबले कम भीड़ वाला और अलग थलग स्थान है। इसमें शुद्ध सफेद रेत, काली लावा चट्टानें और नारियल और खजूर के लहलहाते पेड़ हैं। साथ ही इसकी पृष्ठभूमि में 500 साल पुराना पुर्तगाली किला है जो कि सैलानियों को प्राचीन पुर्तगाली युग की ओर ले जाता है। वागातोर का यह सफेद रेतीला तट बिग वागातोर बीच ‘लिटिल वागातोर’ के नाम से भी जाना जाता है और यह चपोरा किले की लाल प्राचीर को खूबसूरत नजारा देता है। इस बीच के दक्षिणी छोर पर अस्थायी कैफे की एक पंक्ति है जो छाया देने का काम करती है। यहां पर ज्यादातर इजरायीली लोगों की भीड़ होती है। अंजुना की तरह ही वागातोर भी शांत और तुलनात्मक रुप से अविकिसत है जो कि बजट यात्रियों को अपील करता है। यहां आवास सीमित हैं।

इमेक्यूलेट कंसेप्शन चर्च और रिस मगोस फोर्ट
इमेक्यूलेट कंसेप्शन चर्च और रिस मगोस फोर्ट अवर लेडी आॅफ इमेक्यूलेट कंसेप्शन चर्च गोवा में बनने वाली पहली चर्च थी और यह 1541 से यहां पर है। पहले बनी चर्च पूरी तरह नष्ट हो गई थी और इसे इसकी नींव से फिर से 1619 में बनाया गया। तब इस क्षेत्र में आबादी नगण्य थी और नई चर्च का आकार बताता है कि उस समय क्या धार्मिक माहौल रहा होगा और चर्चों के पास कितनी दौलत रही होगी।

मोरजिम बीच
मोरजिम बीच को लोकप्रिय तौर पर टर्टल बीच के नाम से भी जाना जाता हैै और यह उत्तर गोवा के परनेम में स्थित है। इस बीच में हरे भरे पर्यावरण के साथ एक सौम्य पथ भी है।

मोरजिम बीच इसलिए भी खास है क्योंकि यह लुप्तप्राय ओलिव रिडले कछुए का निवास और प्रजनन स्थान है। इस बीच पर दिखने वाले छोटे छोटे कछुए और केंकड़े आप का अनुभव यादगार बना देते हैं। इस बीच पर उथले पानी के कारण काईट सर्फिंग भी एक अन्य लोकप्रिय गतिविधि है।

बेटलबटीम बीच
सूर्यास्त देखना अपने आप में भाग्यशाली लोगों को ही नसीब होता है और अगर वो सूर्यास्त बेटलबटीम बीच का हो तो सुंदरता कल्पना से परे है। मजोरडा बीच के दक्षिण में स्थित बेटलबटीम बीच गोवा के सबसे सुंदर बीचों में से है। अपने शानदार सूर्यास्त के कारण इसे ‘सनसेट बीच आॅफ गोवा’ भी कहा जाता है। यह दूसरे तटों के मुकाबले ना सिर्फ ज्यादा शांत है बल्कि ज्यादा साफ सुथरा भी है। इस तट की शांति और इसका एकांत इसे ज्यादा आकर्षक और आमंत्रित बनाता है।

बोंडला वन्यजीव अभयारण्य
क्या आप इस मौसम में गोवा जा रहे हैं? यदि हां तो अपने पसंदीदा जानवरों के करीब जाने के लिए बोंडला वन्यजीव अभयारण्य जरुर जाएं। गोवा की यह छोटी लेकिन मशहूर सेंचुरी शहर के उत्तरपूर्वी इलाके में पोंडा तालुका में है। सिर्फ 8 किलोमीटर में फैला बोंडला वन्यजीव अभयारण्य ज्यादातर घने जंगल और सदाबहार वनस्पति से घिरा है। इस सेंचुरी में एक मिनी चिडि़याघर, गुलाब गार्डन, डीयर सफारी पार्क, बाॅटनिकल गार्डन, नेचर एजुकेशन सेंटर और परिसर में ही ईको-टूरिज्म काॅटेज भी है।

बागा बीच
गोवा प्राकृतिक आकर्षण से भरा एक स्वर्ग है और यह अपने मनमोहक समुद्र तटों के लिए दुनिया भर में मशहूर है। चमचमाती रेत, आसमान छूते नारियल के पेड़, विशाल समुद्री लहरें और शानदार सी फूड, गोवा में कितना कुछ है देने के लिए। यहां कई आकर्षक बीच हैं और गोवा का नाम लेते ही दिमाग में सुपर रोमांचक बागा बीच का नाम आता है। जिस भी व्यक्ति को गोवा की खूबसूरती देखने का मौका मिला है वो मानता है कि बागा बीच सबसे रोमांचक बीच है।

अर्वलेम केव्स
अपने खूबसूरत तटों और झरनों के अलावा गोवा को मिली विरासत वास्तुकला के लिए भी जाना जाता है। गोवा एक प्राचीन राज्य है और इसकी वास्तुकला भी पुरानी है। गोवा में मौजूद ऐतिहासिक स्मारकों में सबसे खूबसूरत नमूना अर्वलेम केव्स या पांडव गुफाएं है। उत्तर गोवा के बिचोलिम शहर में स्थित यह गुफाएं प्राचीन चट्टानों को काटकर बनाई गईं थी जो कि हमें पौराणिक कहानियों को समझने का मौका देती हैं। इस गुफा की उत्पत्ति छठी सदी की है।

अर्वलेम झरना
चट्टानी पहाड़ी से आंधी की उछाल की तरह गिरता खूबसूरत झरना, यही अर्वलेम झरने की तस्वीर है। इसे हर्वलेम झरने के नाम से भी जाना जाता है और यह उत्तर गोवा में बिचोलिम से 9 किलामीटर दूर अर्वलेम में स्थित है। 70 मीटर की उंचाई से गिरता पानी सचमुच लुभावना नजारा है।

पलोलेम बीच
पलोलेम बीच दक्षिण गोवा के कानाकोना जिले में चैडी के 2 किलोमीटर पश्चिम में स्थित है। कुछ सालों पहले तक सैलानियों का इस बीच में आनाजाना नहीं था, लेकिन पिछले कुछ समय में यहां विकास हुआ और व्यवसायिक गतिविधियां बढ़ने के साथ ही सैलानियों की भीड़ होने लगी। कानाकोना के दक्षिणी तालुका में पश्चिमी घाट की पृष्ठभूमि में यहां से खूबसूरत सूर्यास्त और सूर्योदय देखा जा सकता है। पलोलेम बीच यहां आने वाले के मन में शांति भर देती है जो कि इस बीच की खासियत है।

गोवा के चर्च
गोवा के चर्च काफी लोकप्रिय हैं। गोवा में रहे लंबे पुर्तगाली राज के इतिहास के कारण यहां कई चर्च हैं। पूजा का स्थान होने के अलावा यह चर्च पिछले दिनों की खूबसूरत वास्तुकला का नमूना भी हैं। गोवा के कुछ लोकप्रिय चर्च हैं – सेंट कैथेड्रल चर्च, सेंट फ्रांसिस आॅफ असीसी, बेसिलिका आॅफ बाॅम जीसस, सेंट आॅगस्टीन चर्च और अन्य। गोवा आने वाले ज्यादातर सैलानी इन चर्च को देखते हैं।

अर्वलेम झरना
अर्वलेम झरना उत्तर गोवा मेें सिंक्वेलिम शहर से 2 किलोमीटर दूर स्थित है। 24 फीट उंचा यह झरना एक खूबसूरत पिकनिक स्पाॅट है। इस झरने को रुद्रेश्वर मंदिर की सीढि़यों से भी देखा जा सकता है। सरकार ने इस झरने के पास एक पार्क भी बनवा रखा है जिससे लोग इसकी खूबसूरती का आनंद ले सकें।

अगौड़ा किला
अगौड़ा किला गोवा के इतिहास का सबसे विशाल प्रतिनिधि है। इस किले का निर्माण 1612 में पुर्तगालियों ने मराठाओं और डच के हमले से बचने के लिए किया था। इस किले में ताजे पानी का एक झरना है जो इस जगह से गुजरने वाले लोगों की पानी की जरुरत को पूरा करता था। यह विशाल किला पुर्तगालियों के सभी महत्वपूर्ण कार्यक्रमों का केंद्र था।

चपोली डेम
मडगांव से 40 किलोमीटर दूर स्थित चपोली डेम पहाड़ों से घिरी घाटी में स्थित होने के कारण प्राकृतिक आकर्षण से भरपूर है। यदि आपको मछली पकड़ना पसंद है तो यह ईको-टूरिस्ट स्पाॅट आपके लिए सही है।

महालक्ष्मी मंदिर
गोवा के बंडोरा गांव में महालक्ष्मी मंदिर स्थित है और यह देवी महालक्ष्मी को समर्पित है। इस मंदिर का खूबसूरत चैक इसका बड़ा आकर्षण है। इस मंदिर का निर्माण 1413 ईस्वी में हुआ था और देश भर से लोग इसे देखने आते हैं। नवरात्र का त्यौहार यहां खास उत्साह से मनाया जाता है।

मंगेशी मंदिर
गोवा का मंगेशी मंदिर आधुनिक और पुरानी हिंदू वास्तुकला का मेल है। यह मंदिर भगवान शिव के अवतार भगवान मंगेशी को समर्पित है। कहानियों के अनुसार स्वयं भगवान ब्रह्मा ने इस लिंगम की स्थापना की थी। हर सोमवार को यहां भगवान की मूर्ति की यात्रा निकाली जाती है।

गोवा के आसपास पर्यटन स्थल
गोवा से महाराष्ट्र या कर्नाटक राज्य घूमने की योजना बनाई जा सकती है। इन दोनों ही राज्यों में सैलानियों के लिए बहुत कुछ है। देश भर से कई लोग मुंबई और पुणे की यात्रा करते हैं। मुंबई में बाॅलीवुड है जो कि हिंदी फिल्म उद्योग का केंद्र है। यहां लोग गेटवे आॅफ इंडिया, एस्सेल वल्र्ड और लोकप्रिय बीच भी देख सकते हैं। पुणे में कई पार्क, संग्रहालय और चिडि़याघर हैं जो कि सैलानियों को आकर्षित करते हैं। बेंगलुरु कर्नाटक की राजधानी है और भारत का तेजी से बढ़ता शहर है। मैसूर अपने मंदिरों के लिए मशहूर है, खासकर चामुंडेश्वरी मंदिर।

“राजस्थान के सबसे बेहतरीन पर्यटन स्थल”
“राजस्थान का एक गाँव जो है शहीदों का गांव”
“विश्व का सबसे ठंडा स्थान, साल में बस 2 बार उगता है सूरज”

Add a comment