Mutual Fund स्कीमों में TER (Total Expenses Ratio) क्या है?

अक्टूबर 4, 2018

सेबी ने अभी हाल ही में Mutual Fund स्कीमों में TER (Total Expenses Ratio) कम किया है। इससे पहले भी सेबी ने निवेशकों के हित के नाम पर TER कम किया था। आखिर ये TER क्या है और सेबी इसे क्यों कम करना चाहती है? क्या यह उचित कदम है?

हर Mutual Fund कंपनी हर स्कीम में उसकी AUM Size के हिसाब से एक खर्चा कर सकती है जिसे ही TER (Total Expenses Ratio) कहते हैं। इस TER से ही संबंधित AMC सारे खर्चे व अपना Profit निकालती है। इस Maximum TER से ही Distributor को कमीशन देती है। SEBI का कहना है कि TER कम होने से निवेशकों के ऊपर खर्चे का भार कम हो जायेगा व उनकी 20-25 पैसे Return बढ़ जायेगा। इस तर्क को ठीक मान लिया जाये तो इसमें दूसरे पहलू की तरफ भी ध्यान देना ज़रूरी है। Distributor के कमीशन में पिछले 4-5 वर्षों से लगातार कमी की जा रही है। हालात ये हो गये हैं कि आज Distributor की Average Brokerage1% से भी कम हो गयी है। फिर उसके ऊपर 18% GST व Income Tax, अगर कोई Distributor Income Tax में Highest Slab में है तो उसकी Average Income केवल 50 Paise रह गयी है।

सेबी के इस कदम से सबसे बड़ा नुकसान यह होगा कि छोटे Distributor बाज़ार से गायब हो जायेंगें। आज भी निवेशकों को सही राय केवल Distributor ही दे रहे हैं। Distributors में कमी होने से निवेशकों को या तो बैंकों इत्यादि के पास राय के लिये जाना होगा या Direct Investment करना होगा। बैंकों से Professional व सही राय नहीं मिल पाती। दूसरी ओर Direct Investment बहुत ही खतरनाक है। आज भी India में गिने चुने लोग ही Direct Investment के बारे में समझ रखते हैं।

सो सेबी निवेशकों के हित के नाम पर वह आत्मघाती कदम उठा रही है। जिन निवेशकों को कम खर्चे वाले Plans चाहिये वो Direct Investment करें। उन गिने चुने Investors के नाम पर बहुतायात सीधे सादे Investor के साथ धोखा क्यों? आज भी पूरी दुनिया में Developed Countries के मुकाबले India में बहुत ही कम TER है। निवेशकों का हित Distributor भी चाहते हैं क्योंकि निवेशकों से ही Distributor की रोज़ी रोटी चलती है। Distributor निवेशकों को सही राय देकर उनका Wealth Creation करते हैं।

सो सेबी को चाहिये कि TER Further कम नहीं करे। अगर Distributor ही नहीं होंगें तो निवेशकों को Mis-Selling होगी। Direct निवेश करने से उनको मार्केट में उतार-चढ़ाव से नुकसान ज्यादा होगा। पूरी दुनिया में सारे Developed Countries में 60% – 70% लोग Mutual Funds में निवेश करते हैं। भारत में वह अभी Primary Level पर है। केवल 2 to 3% लोग Mutual Funds में निवेश करते हैं। सो SEBI को चाहिये कि Distributor का भी ध्यान रखे और निवेशकों का भी।

sodhani-1 Mutual Fund स्कीमों में TER (Total Expenses Ratio) क्या है?ये लेख फाइनेंशियल एडवाइजर श्री राजेश कुमार सोढानी, सोढानी इंवेस्टमेंट्स, जयपुर द्वारा प्रस्तुत है। फाइनेंशियल प्लानिंग पर आधारित ये लेख आपको कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“S.I.P में देरी की लागत”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें