भारत के कुछ ऐसे कसबे जहाँ आपको जरूर जाना चाहिए

आज के समय में घूमना तो हम सब चाहते हैं मगर समस्या यह है की कहाँ जाया जाये ? तो चलिए हम आपकी इस समस्या को हल कर देते हैं। अगर सही मायनो में देखा जाये तो हर इंसान शांति के लिए घूमना चाहता है तो निम्न दी गयी सूची को हमने इस बात को ध्यान में रखते हुए ही बनाया है। हम आशा करते हैं की आपको ये कसबे बहुत पसंद आएंगे।

1. आनंदपुर साहिब, पंजाब – सिख धर्म के तीर्थ स्थान के रूप में जानी जाने वाली इस जगह का अपने आप में महत्व है। इस जगह को विरासत -ए-खालसा के रूप में भी जाना जाता है। यहाँ पर इससे सम्बंधित कई मुसियम भी है।

2. चिकमंगलूर, कर्नाटका – अपना कुछ समय यहाँ व्यतीत करके आपको प्रकर्ति का असली मतलब समझ में आएगा। यहाँ के नज़ारे इतने जीवंत है की यहाँ से कहीं और जाने का आपका मन ही नहीं करेगा।

3. धनसुखकोडी , तमिलनाडु – भूतिया कसबे के नाम से मशहूर धनसुखकोडी बंगलोर से 620 किलोमीटर दूर है। ये माना जाता है करीब 50 साल पहले इस जगह पर एक भीषण चक्रवात आया था जिसमे यहाँ के सभी लोगों की जान चली गयी थी तभी से इस जगह को भूतिया माना जाता है। यहाँ के बारे में कई और कहानियां भी विख्यात है।

4. द्रास, जम्मू कश्मीर – कारगिल से 60 किलोमीटर दूर द्रास एक बहुत ही बर्फीली जगह है यहाँ का तापमान -45 डिग्री रहता है। इस जगह पर आपको प्रकति की विषम परिस्थितियों के बारे में पता चलेगा।

5. जूनागढ़, गुजरात – एक ऐतिहासिक शहर जूनागढ़ अपने मंदिर, मस्जिज़, किले और साहित्य के लिये प्रसिद्ध है। पर मुख्य तौर से इस जगह को गिर नेशनल पार्क के लिए जाना जाता है। यहाँ का प्राकर्तिक नज़ारा देखते ही बनता है।

6. किलमिंग्पोंग, वेस्ट बंगाल – हिमालय की खूबसूरत तले में स्थित, समुद्र तल से 1250 किलोमीटर ऊपर किलमिंग्पोंग वेस्ट बंगाल का एक मनोरम पर्यटक स्थल है। यहाँ मौसम पूरे साल मनोरम और सुहाना बना रहता है। यहाँ पर आपको प्रकर्ति से जुड़ने का मौका मिलेगा तो एक बार जरूर जाएँ किलमिंग्पोंग।

7. खज्जर, हिमाचल प्रदेश – चम्बा जिले का एक छोटा सा गांव खज्जर भारत का स्विज़रलैंड कहा जाता है। डलहौज़ी से 22 किलोमीटर दूर इस जगह जाके आपको सही में समझ में आ जायेगा की भारत को अतुल्य भारत क्योँ कहा जाता है।

8. लंढौर , देहरादून – शहर की भीड़ भाड़ से दूर लंढौर एक बहुत ही शांतिप्रिय जगह है जहा वीकेंड पर भी जाया जा सकता है। बड़े बड़े देवदार के पेड़ों के बीच में स्थित इस जगह को एक बार जाने के बाद भूला नहीं जा सकता। यह जगह आपकी स्मृतियों में सदा के लिए अमर हो जाएगी।

9. मंडवा राजस्थान – राजस्थान के झुंझुनू जिले का एक छोटा सा गांव मंडवा अपने किलों और हवेलियों के लिए प्रसिद्ध है। पाषाण काल में यह जगह सिल्क रूट के नाम से विख्यात था यहाँ से चीन तक व्यापर किया जाता है। ये माना जाता है की जब व्यापारी आते थे तो वो यहीं रुका करते थे। इसी वजह से यहाँ इतने किले और हवेलियां बनवायी गयी। यहाँ का लोक रंग, खाना पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है।

10. ओरछा, मध्य प्रदेश – बेतवा नदी के किनारे बसा ओरछा अपने यहाँ के मंदिर और किलों के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ पर बने मंदिर 16 से 17 शताब्दी में बनाये गए थे। यदि आप को पाषाणकालीन सभ्यता में रूचि है तो आपको यह जगह बहुत पसंद आएगी।