उदयपुर के पर्यटन स्थल

0

आइये जानते हैं उदयपुर के पर्यटन स्थल के बारे में। राजस्थान का उदयपुर शहर भारत के सबसे खूबसूरत शहरों में शामिल है। झीलों की नगरी के नाम से मशहूर इस शहर को ‘पूर्व का वेनिस’ भी कहा जाता है।

सिसोदिया वंश के महाराजा उदयसिंह ने 1553 में इस खूबसूरत शहर को बसाया था। ये शहर अपने शांत वातावरण, शानदार किलों, मंदिरों, खूबसूरत झीलों, महलों और संग्रहालयों के लिए मशहूर है।

ऐसे में क्यों ना, आज इस खूबसूरत शहर की सैर करने का प्लान बनाया जाये। तो चलिए, आज जागरूक पर उदयपुर के पर्यटन स्थल के खूबसूरत नज़ारों का आनंद लेते हैं।

उदयपुर के पर्यटन स्थल 1

उदयपुर के पर्यटन स्थल

सिटी पैलेस – उदयपुर का सिटी पैलेस बेहद खूबसूरत है। ऊँची पहाड़ी पर स्थित ये पैलेस मुग़ल और राजस्थानी वास्तुकला का बेहतरीन उदाहरण है। इसे बनाने में 22 राजाओं ने योगदान दिया था। यहाँ से पूरे शहर का मनमोहक नज़ारा देखा जा सकता है। इस परिसर में शीश महल, जगदीश मंदिर और सिटी पैलेस संग्रहालय जैसे बहुत-से स्थान हैं जिन्हें देखने के लिए आपको समय जरुर निकालना चाहिए।

जग मंदिर – जगमंदिर एक खूबसूरत महल है जो पिछोला झील के आइलैंड पर बना हुआ है। इस महल को देखने के लिए विशेष अनुमति की जरुरत पड़ती है। इस खूबसूरत पैलेस तक पहुँचने के लिए आपको नाव की सवारी करने का रोमांच लेना होगा।

फतेहसागर झील – झीलों की इस नगरी में आकर अगर फतेहसागर झील में बोटिंग नहीं करेंगे तो आपका उदयपुर आने का रोमांच अधूरा ही रह जाएगा इसलिए इस खूबसूरत झील में शाम के समय डूबते सूरज को देखते हुए बोटिंग का आनंद जरूर लीजिये और इस झील के किनारे बैठने का मौका भी बिलकुल ना छोड़ें। ये झील पिछोला झील से जुड़ी हुयी है और इसका पुनर्निर्माण महाराणा फतेहसिंह ने करवाया था।

विंटेज कार म्यूजियम, उदयपुर – अगर आप विंटेज कारों को पसंद करते हैं तो इस स्थान पर जरुरी जाइये। सिटी पैलेस परिसर से 2 किलोमीटर की दूरी पर विंटेज कारों सहित पुरानी कारों का अच्छा संग्रह है। करीब 2 दर्जन कारें पर्यटकों के देखने के लिए रखी गयी हैं जिनमें रॉल्स रॉयस फैंटम और कैडीलेक कन्वेर्टिबल भी शामिल हैं।

जगदीश मंदिर – इस मंदिर का निर्माण 1651 ई. में हुआ और ये मंदिर इंडो-आर्यन शैली में बना है। इस मंदिर में भगवान विष्णु और जगन्नाथ जी की मूर्ति स्थापित है।

बगोर की हवेली – पिछोला झील के सामने स्थित इस हवेली का निर्माण 18वीं शताब्दी में हुआ था। इस हवेली में 138 कमरे हैं और यहाँ हर शाम 7 बजे मेवाड़ी और राजस्थानी नृत्य का आयोजन किया जाता है जिसे आपको जरुर देखना चाहिए।

पिछोला झील – उदयपुर की इस खूबसूरत झील का निर्माण राणा लाखा के काल में किसी बंजारे ने करवाया था। इस झील के आसपास का मनोरम दृश्य पर्यटकों को यहाँ घंटों बिताने के लिए प्रेरित करता है। इस झील पर दो द्वीप हैं जिन पर जगनिवास और जगमंदिर नामक महल बने हुए हैं। दोनों ही महल राजस्थानी शिल्पकला के उम्दा उदाहरण हैं।

महाराणा प्रताप स्मारक – फतेह सागर झील के पास स्थित महाराणा प्रताप स्मारक उदयपुर के दर्शनीय स्थलों में से एक है। ये स्मारक मोती मगरी या पर्ल हिल की चोटी पर स्थित है। ये स्मारक महाराणा प्रताप और उनके वफादार घोड़े चेतक को समर्पित है।

उदयपुर के पर्यटन स्थल 2

सहेलियों की बाड़ी – ये उदयपुर का एक बेहद खूबसूरत गार्डन है जिसमें कमल के तालाब, फव्वारे, संगमरमर के हाथी देखने को मिलेंगे और यहाँ का हरा-भरा, शांत वातावरण आपको बहुत पसंद आएगा।

श्री मंशापूर्ण करणी माता मंदिर – ये मंदिर उदयपुर में मचला मगरा पहाड़ी पर स्थित है। इस मंदिर में करणी माता की पत्थर की मूर्ति स्थापित है। दूध तलाई झील भी इस मंदिर के निकट ही है, जहाँ से रोपवे के जरिये इस मंदिर तक पंहुचा जा सकता है और वहां पहुंचकर माता के दर्शन करने के साथ उदयपुर का खूबसूरत नज़ारा भी देखा जा सकता है।

एकलिंगजी का मंदिर – उदयपुर से लगभग 18 किमी. दूर स्थित एकलिंगजी का मंदिर राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। ये मंदिर दो पहाड़ियों के बीच स्थित है। भगवान शिव को समर्पित इस मंदिर का निर्माण 734 ए.डी. में बप्पा रावल ने करवाया था। ये भव्य और प्राचीन मंदिर चारों ओर ऊँचे परकोटे से घिरा हुआ है और इस मंदिर परिसर में कुल 108 मंदिर है। मुख्य मंदिर में एकलिंग जी की चार सिरों वाली 50 फ़ीट ऊँची मूर्ति स्थापित है।

उदयपुर एक बेहद खूबसूरत शहर है और इस बात में कितनी सच्चाई है, ये आपको उदयपुर की सैर करने पर ही पता चलेगा इसलिए उदयपुर जैसे खूबसूरत और शांत शहर को देखने के लिए प्लान जरूर बनायें।

उम्मीद है उदयपुर के पर्यटन स्थल कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

“पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?”

जागरूक यूट्यूब चैनल

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here