होम स्वास्थ्य

यूरिक एसिड क्या होता है?

शरीर में पाए जाने वाले हर एक तत्व की मात्रा जब तक संतुलित बनी रहती है, तब तक हमारा शरीर स्वस्थ बना रहता है लेकिन जब किसी भी तत्व की मात्रा थोड़ी सी भी कम-ज़्यादा होने लगती है तो इसका प्रभाव शरीर पर दिखाई देने लगता है जैसे शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने से गाउट रोग हो जाता है जो एक प्रकार का गठिया रोग ही होता है जिसमें शरीर के जोड़ों में बहुत दर्द रहने लगता है। ऐसे में ये जानना बेहतर होगा कि यूरिक एसिड क्या होता है और इसकी मात्रा बढ़ने के क्या कारण होते हैं ताकि इस एसिड की मात्रा को बढ़ने से रोककर गाउट जैसी बीमारी से बचा जा सके। तो चलिए, आज जानते हैं यूरिक एसिड के बारे में –

यूरिक एसिड कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन और नाइट्रोजन जैसे तत्वों से मिलकर बना कम्पाउंड होता है जो शरीर को प्रोटीन से एमिनो अम्लों के रूप में प्राप्त होता है। इस एसिड की सामान्य मात्रा तो यूरिन के साथ शरीर से बाहर निकल जाती है लेकिन जब इसकी ज़्यादा मात्रा शरीर में बनने लगती है तो ये मात्रा बाहर निकलने की बजाये शरीर में ही जमा होती जाती है और गठिया का रूप ले लेती है।

प्रोटीन से प्राप्त होने वाले इस यूरिक एसिड का निर्माण कैसे होता है ?

एमिनो एसिड्स के संयोजन से प्रोटीन बना होता है और जब पाचन के दौरान प्रोटीन टूटता है तो इस प्रक्रिया में प्रोटीन से यूरिक एसिड बनता है।

प्रोटीन का शरीर के लिए कितना महत्व होता है, ये तो आप बखूबी जानते हैं। शरीर में नयी कोशिकाओं और ऊतकों के निर्माण में प्रोटीन बेहद ज़रूरी होता है, साथ ही पुरानी सेल्स की मरम्मत के लिए भी ये आवश्यक होता है। इसकी कमी होने पर शरीर कमज़ोर होने लगता है और बहुत सी बीमारियों का ख़तरा भी बढ़ जाता है। ऐसे में प्रोटीन की ज़्यादा मात्रा आहार में ली जाती है जो बढ़ते हुए बच्चों, युवाओं और प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए आवश्यक भी होती है

लेकिन अगर 25 साल की उम्र के बाद कम शारीरिक श्रम करते हुए प्रोटीन की ज़्यादा मात्रा का सेवन किया जाता है तो यही प्रोटीन शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ाने लगता है।

इस एसिड की बढ़ी हुयी मात्रा छोटे-छोटे क्रिस्टल्स के रूप में हड्डियों के जोड़ों के आसपास जमा होने लगती है। ये क्रिस्टल्स बहुत नुकीले होते हैं जो जोड़ों की चिकनी झिल्ली में चुभते हैं जिससे भयंकर दर्द होता है। रात में ये दर्द बढ़ जाता है और सुबह शरीर में अकड़न महसूस होती है।

यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने के कारण-

  • कुछ लोगों में यूरिक एसिड का बढ़ना वंशानुगत होता है यानी उनकी हर पीढ़ी में इस एसिड के बढ़ने की समस्या पायी जाती है।
  • किडनी द्वारा सीरम यूरिक एसिड का कम उत्सर्जन करने से भी इसकी मात्रा रक्त में बढ़ जाती है।
  • तेज़ी से वजन घटाने या उपवास की प्रक्रिया में भी इस एसिड का लेवल काफी तेज़ी से बढ़ जाता है।
  • डायबिटीज की दवाएं और पेशाब बढ़ाने वाली दवाएं भी इस एसिड की मात्रा को बढ़ा देती हैं।

यूरिक एसिड के बढ़ने से होने वाले नुकसान–

  • शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाने से शरीर के छोटे जोड़ों में दर्द रहने लगता है जिसे गाउट रोग कहते हैं।
  • अगर किडनी की भीतरी दीवारों की लाइनिंग क्षतिग्रस्त हो जाए तो भी यूरिक एसिड बढ़ जाता है जिससे किडनी में स्टोन होने का ख़तरा बढ़ जाता है।
  • इसके अलावा यूरिक एसिड का बढ़ा हुआ स्तर कार्डियोवैस्कुलर रोग और मेटाबोलिक सिन्ड्रोम का कारण भी बन सकता है।

यूरिक एसिड की मात्रा के बढ़ने से शरीर को होने वाली तकलीफ का अंदाज़ा आपको हो गया है। ऐसे में इस एसिड की मात्रा को बढ़ने से रोकने के लिए संतुलित आहार का लिया जाना बेहद ज़रूरी है जिसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, विटामिन्स, मिनरल्स और फैट्स का संतुलन हो ताकि किसी भी एक तत्व की मात्रा ना कम हो सके और ना ही ज़्यादा।
इसके अलावा पर्याप्त मात्रा में पानी पीकर भी यूरिक एसिड की बढ़ी हुयी मात्रा से बचाव सम्भव है क्योंकि पानी की पर्याप्त मात्रा पीने से शरीर में मौजूद यूरिक एसिड की ज़्यादा मात्रा यूरिन के ज़रिये बाहर निकाली जा सकती है।

दोस्तों, अब आप जान चुके हैं कि यूरिक एसिड प्रोटीन से प्राप्त होता है और प्रोटीन की अनावश्यक मात्रा शरीर में इसके स्तर को बढ़ाकर गाउट जैसे कई गंभीर रोगों का कारण बन जाती है इसलिए अपने आहार में प्रोटीन की संतुलित मात्रा लेना शुरू कर दीजिये और स्वस्थ और संतुलित जीवन का आनंद लेते रहिये।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“सम्मोहन क्या होता है और इससे दूसरों को अपने वश में कैसे किया जाता है?”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Featured Image Source