जानिए एंटीबायोटिक दवाओं का सही इस्तेमाल वरना हो सकता है भारी नुकसान

हम जब भी बीमार पड़ते हैं तो डॉक्टर हमें एंटीबायोटिक दवा खाने को कहते हैं लेकिन एंटीबायोटिक दवाओं के अनियमित सेवन और गलत तरीके से इस्तेमाल करने के कारण यह हमारे लिए काफी हानिकारक भी हो सकती है। आइए जानते हैं एंटीबायोटिक दवाओं के सही इस्तेमाल और इससे होने वाले फायदे और नुकसान के बारे में।

1. हालाँकि जानलेवा संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबायोटिक एक काफी कारगर और असरदार तरीका है। लेकिन इसके जितने फायदे हैं उतने ही इसके नुकसान भी हैं इसलिए दुनिया भर में यह एक चिंता का विषय भी बना हुआ है।

2. एंटीबायोटिक को सुपरबग भी बोला जाता है। अगर भारत की बात करें तो यहां प्रति वर्ष करीब 50 हजार से भी अधिक बच्चों की इसके प्रतिरोधी संक्रमणों के कारण मौत हो रही है और यह एक गंभीर विषय है।

3. एंटीबायोटिक का असर कम हो जाने पर बैक्टीरिया हमारे शरीर में हावी हो जाते हैं और इस कारण प्रति वर्ष करीब 7 लाख लोग अपनी जान गवा रहे हैं। माना जा रहा है कि 2050 तक यह आंकड़ा करोड़ों तक पहुंच सकता है।

4. एंटीबायोटिक दवाएं बैक्टीरिया से पैदा होने वाली बीमारियों से लड़ने में सक्षम है लेकिन यह वायरस से लड़ने में असमर्थ होते हैं। यही कारण है कि डॉक्टर्स सर्दी जुकाम जैसी बीमारियों में एंटीबायोटिक लेने की सलाह नहीं देते।

5. एंटीबायोटिक दवाएं खाने का भी एक कायदा है इसे पानी के साथ ही लेनी चाहिए अगर इसे दूध या किसी डेरी प्रोडक्ट के साथ लेते हैं तो इसका असर कम हो जाता है। एंटीबायोटिक लेने के लिए पहले पूरा एक गिलास पानी पीकर ही एंटीबायोटिक दवा लेनी चाहिए और एंटीबायोटिक लेने के 2 घंटे के बाद तक दूध से बनी कोई भी चीज नहीं खानी चाहिए।

6. डॉक्टर हमें एंटीबायोटिक का पूरा कोर्स लेने को कहते हैं लेकिन हम लापरवाही के चलते सेहत में सुधार होते ही यह कोर्स अधूरा छोड़ देते हैं, लेकिन ऐसा करना हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। अगर यह कोर्स बीच में छोड़ दिया जाए तो बीमारी के बैक्टीरिया और भी ज्यादा ताकतवर हो जाते हैं।

7. हमेशा ध्यान रखें पुरानी एंटीबायोटिक दवाएं खाने से बचें क्योंकि पुरानी एंटीबायोटिक दवाओं के खिलाफ जीवाणुओं ने भी प्रतिक्षमता पैदा कर ली है जिस कारण पुरानी एंटीबायोटिक दवाएं बीमारी से लड़ने के लिए कम असरदार होती है।

8. शहद एक कुदरती एंटीबायोटिक है, जहां तक हो सके ऐसी कुदरती एंटीबायोटिक चीज़ों का ही उपयोग करें।

9. अगर आपकी बीमारी ज्यादा बढे तभी एंटीबायोटिक दवाएं खाएं वरना आप कुदरती चीजें खाने से भी अपनी प्रतिरोधी क्षमता बढ़ा सकते हैं। जैसे सर्दी-जुकाम होने पर अदरक की चाय पीने से शरीर को मजबूती मिलती है और वायरस के हमला करने का खतरा कम हो जाता है।

10. नवजात बच्चों के लिए मां का दूध बेहद फायदेमंद होता है और यह बच्चों के लिए एंटीबायोटिक का भी काम करता है जो उन्हें बीमारियों से लड़ने की ताकत देता है।

“तंबाकू के खतरनाक नुकसान”
“गुटखा खाने के ये नुकसान जानकर गुटखा खाना छोड़ देंगे आप”
“कभी जल्दबाजी ना करें वरना भुगतने पड़ेंगे ये नुकसान”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment