आइये जानते हैं उत्तराखण्ड के पर्यटन स्थल के बारे में। भारत के उत्तर में स्थित पहाड़ी राज्य उत्तराखंड को पहले उत्तरांचल नाम से जाना जाता था। इस राज्य का विशेष महत्त्व इसलिए है क्योंकि यहाँ आस्था के केंद्र भी स्थित हैं और प्रकृति के मनोरम दृश्यों की भरमार भी है जिन्हें देखकर आप आनंदित हुए बिना नहीं रह सकेंगे।

यहाँ हिमालय के ऊँचे शिखर भी हैं तो झरने, नदियां, चीड़ और देवदार के जंगल भी हैं। साथ ही देवभूमि के नाम से पहचाने जाने वाले इस राज्य में हिन्दुओं के पवित्र चारधाम बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री भी स्थित हैं। ऐसे में आज जागरूक पर आपको इस खूबसूरत राज्य उत्तराखण्ड के पर्यटन स्थल की सैर पर ले चलते हैं।

उत्तराखण्ड के पर्यटन स्थल 1

उत्तराखण्ड के पर्यटन स्थल

देहरादून – उत्तराखंड की राजधानी देहरादून इस राज्य का सबसे बड़ा शहर भी है। यहाँ घूमने के बहुत से स्थान हैं जैसे मसूरी, ऋषिकेश, चंद्रबाड़ी, मालसी डियर पार्क, कलंगा स्मारक, लक्ष्मण सिद्ध, तपोवन और संतोला देवी मंदिर। इन दर्शनीय स्थलों के अलावा इस शहर का गौरवशाली इतिहास भी है।

नैनीताल – उत्तराखंड की प्रशासनिक राजधानी होने के अलावा ये शहर फेमस टूरिस्ट स्पॉट भी है जहाँ सालभर पर्यटकों का ताँता लगा रहता है। यहाँ जिम कॉर्बेट पार्क, नैनीताल झील, हनुमान गढ़ी, केव्स गार्डन, राजभवन, हल्द्वानी, भीमताल, कालाढूंगी, भवाली, घोड़ाखाल मंदिर, रामगढ़, सात ताल, बेतालघाट, नौकुचिया ताल जैसे रमणीय दर्शनीय स्थल हैं।

उत्तरकाशी – हिमालय रेंज की ऊंचाई पर बसे इस जिले में गंगा और यमुना नदियों का उद्गम स्थल है इसलिए यहाँ हर साल हजारों तीर्थ यात्री आया करते हैं। यहाँ एकादश रूद्र मंदिर, डोडी ताल, दुर्योधन मंदिर, शक्ति मंदिर, विश्वनाथ मंदिर, गंगोत्री ग्लेशियर, गंगोत्री नेशनल पार्क जैसे कई दर्शनीय स्थल स्थित हैं।

रानीखेत – इस स्थान का नाम रानीखेत रखने के पीछे एक रोमांचक किस्सा है। राजा सुधारदेव की रानी पद्मावती रानीखेत पर इतनी मोहित हो गयी थी कि उन्होंने इस स्थान को ही अपना आवास बना लिया था। तभी से इस मनोरम खूबसूरती से भरे स्थान का नाम रानीखेत रख दिया गया। यहाँ से हिमालय की बर्फ से ढकी चोटियां और घने जंगल आसानी से देखे जा सकते हैं।

उत्तराखण्ड के पर्यटन स्थल 2

रुद्रप्रयाग – ये स्थान अपने मंदिरों, नदियों और प्राकृतिक नजारों के कारण प्रसिद्ध है। ये शहर अलकनंदा और मन्दाकिनी नदियों का संगम स्थल है। केदारनाथ मंदिर, अगस्त्यमुनि, गुप्तकाशी, सोनप्रयाग, गौरीकुंड, दिओरिया ताल और चोपता यहाँ के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं।

हरिद्वार – चारधाम यात्रा की शुरुआत करने वाले इस पवित्र स्थल की धार्मिक मान्यता बहुत ज्यादा है। इस स्थान को भगवान को पाने का दरवाजा यानी मोक्ष प्राप्ति के मार्ग के रुप में जाना जाता है। यहाँ हर की पौड़ी, मनसा देवी मंदिर, चंडी देवी मंदिर और वैष्णो देवी मंदिर हैं।

चम्पावत – उत्तराखंड के इस ऐतिहासिक शहर को इसकी बेजोड़ वास्तुशिल्प के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। यहाँ पहाड़ों की ऊंचाई भी है, नदियां भी हैं और हरे-भरे मैदान भी हैं। यहाँ चंद शासकों के किले के अवशेष आज भी मौजूद हैं। इस नगर में शनि देवता मंदिर, नागनाथ मंदिर, मीठा रीठा साहिब, बालेश्वर मंदिर, पूर्णागिरि मंदिर, पंचेश्वर, देवीधुरा, लोहाघाट, क्रान्तेश्वर महादेव मंदिर, एक हथिया का नौला और पाताल रुद्रेश्वर जैसे पर्यटन स्थल मौजूद हैं।

अल्मोड़ा – इस सांस्कृतिक नगरी में रानीखेत, चितई मंदिर, जागेश्वर धाम, सोमेश्वर घाटी, बिनसर महादेव, चौबटिया गार्डन, कटारमल सूर्य मंदिर और डोल आश्रम जैसे कई मनोरम दर्शनीय स्थल मौजूद हैं।

बागेश्वर – सरयू और गोमती नदियों के तट पर बसे इस जिले में कौसानी हिल स्टेशन, चाय के बागान, पिंडारी ग्लेशियर, बागनाथ मंदिर, बैजनाथ, चंडिका मन्दिर, कपकोट, गौरी उडियार, गरुड़ और कांडा जैसे प्रमुख पर्यटन स्थल हैं।

चमोली – उत्तराखंड के इस जिले में बर्फ से ढके पहाड़ पर्यटकों के मन को रोमांचित करने के लिए काफी हैं। बद्रीनाथ मंदिर, तपकुंड, हेमकुंड साहिब, गोपेश्वर, पंच प्रयाग, देव प्रयाग, विष्णु प्रयाग, फूलों की घाटी, औली, केदारनाथ वाइल्ड लाइफ सेंचुरी जैसे पर्यटन स्थल यहाँ मौजूद हैं।

पौड़ी गढ़वाल – उत्तराखंड के इस जिले का मुख्यालय पौड़ी शहर में स्थित है। यहाँ हिमालय की पर्वत शृंखलाएँ, हरे-भरे जंगल, बड़े-बड़े पहाड़ और नदियों के खूबसूरत नजारें देखने को मिलते हैं। यहाँ चौखम्बा व्यू पॉइंट, खिरसू, कंडोलिया देवता, दंड नागराज टेम्पल, ज्वाल्पा देवी टेम्पल, एकेश्वर महादेव, बिनसर महादेव, लाल टिब्बा और ताराकुण्ड देवी मंदिर जैसे प्रमुख पर्यटन स्थल मौजूद हैं।

दोस्तों, उत्तराखंड की प्राकृतिक छटा, अनुपम सौन्दर्य और धार्मिक स्थलों की सैर करने के बाद आप जान गए होंगे कि आपको उत्तरखंड को करीब से जरुर देखना चाहिए।

उम्मीद है उत्तराखण्ड के पर्यटन स्थल कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?

जागरूक यूट्यूब चैनल