होम स्वास्थ्य

जानिए शरीर में विटामिन की कमी के मुख्य लक्षण

450

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में मनुष्य का खान-पान एक अहम भूमिका निभाता है। सही मायने में विटामिन और फाइबर से युक्त भोजन एक स्वस्थ शरीर का विकास करता है। जैसा कि हम जानते हैं कि एक स्वस्थ शरीर में ही एक स्वस्थ दिमाग का विकास होता है।

ऐसे में ये जरूरी हो जाता है कि हम अपने आहार में विटामिन, फाइबर, सुक्रोज, फ्रक्टोज, माल्टोस, ग्लूकोस आदि जरूरी अवयवों को शामिल करें। विटामिन की कमी से हमारे शरीर को तरह तरह के बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए हमें यह जान लेना बहुत जरूरी है कि कौन सा विटामिन हमारे शरीर को कौन सी बीमारी से बचाता है। वैसे तो बहुत सारे विटामिन हैं पर हम आपको बताएंगे कुछ मुख्य विटामिन्स के बारे में..

1. विटामिन ए- विटामिन एक प्राय: दो तरह के होते हैं- रेटिनॉल और कैरोटिन। विटामिन ए में पाए जाने वाले ये दोनों तत्व आखों के लिए बहुत जरूरी होते हैं। यह विटामिन शरीर के कई अंगों जैसे त्वचा, बाल, नाखून, ग्रंथि, दांत, मसूड़े और हड्डियों को सामान्य रूप में बनाए रखने में मदद करती हैं ताकि वो ठीक तरह से काम कर सकें।

लक्षण- इस विटामिन की कमी के मुख्य लक्षण मोतियाबिंद के रूप में सामने आते है। इसके साथ साथ आंखो की रोशनी कम होना और रात के अंधेपन जैसी परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है।
शरीर में विटामिन ए की कमी न होने के लिए चुकंदर, गाजर, पनीर, दूध, टमाटर, हरी सब्जियां, पीले रंग के फल खाने चाहिए। इसमें विटामिन ए भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो शरीर में इसकी पूर्ति करता है।

2. विटामिन बी- ये विटामिन मुख्य रुप से कोशिकाओं के निर्माण के लिए जिम्मेदार होता है। इसके कई काम्पलेक्स होते हैं, बी1, बी2, बी3, बी5, बी6, बी7 और बी12। यह बुद्धि, रीढ़ की हड्डी और नसों के कुछ तत्वों को बनाने में मदद करता है। लाल रक्त कणिकाओं का निर्माण भी इसी से होता है।

लक्षण- इस विटामिन की कमी से बेरी बेरी, स्किन डिजीज, एनीमिया, सांस लेने में परेशानी, खून की कमी, याद रखने की क्षमता में कमी जैसे लक्षण देखने को मिलते है। खतरनाक बीमारियां हो सकती हैं। इसका आनुवंशिक कारण भी हो सकता है। आंतों एवं वजन घटाने की सर्जरी कराना भी इसके लिए जिम्मेदार हो सकता है। शरीर में इसकी कमी को मछली, मीट, अंडा से दूर किया जा सकता है। शाकाहारी लोग इसकी आपूर्ति दूध और इससे बनने वाले उत्पादों, जमीन के अंदर उगने वाली सब्जियों से कर सकते हैं।

3. विटामिन सी- विटामिन सी हमारे शरीर में जरूरी अग्नाशयी रस का निर्माण करता है। मुख्य रूप से इसका काम हमारे शरीर की कोशिकाओं को ऊर्जा पहुंचाने का होता है। इसके अलावा ये दिमाग से शरीर के अंगो, तंत्रिकाओं को संदेश पहुंचाने का भी काम करता है। विटामिन सी मुख्य रूप से रेशेदार आर खट्टे फलों में पाया जाता है। जैसे कि नींबू, संतरा, मौसमी आदि।

लक्षण- विटामिन सी कमी से स्कर्वी नामक बीमारी हो जाती है। स्कर्वी रोग से शरीर में थकान, मासंपेशियों की कमजोरी, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द, मसूढ़ों से खून आना और टांगों में चकत्ते पड़ने जैसी दिक्कतें हो जाती हैं।

4. विटामिन डी- त्वचा संबंधी बिमारियों को दूर करने के लिए विटामिन डी काफी मददगार होता है। शरीर में विटामिन डी की कमी को पूरा करने का सबसे अच्छा स्रोत सूरज की रौशनी होती है।

लक्षण- शरीर में इसकी कमी से त्वचा संबंधी बीमारिया जैसे कि छोटे-छोटे लाल-सफेद चकत्ते, रुखापन जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसकी कमी से हड्डियों का टेढ़ापन, शारीरिक दुर्बलता जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसकी कमी को पूरा करने के लिए सूर्य की किरणों के अलावा, दूध, दही, चिकन, मटन, अंडा मददगार साबित होते हैं।

5. विटामिन ई- विटामिन ई शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाए रखने, शरीर को एलर्जी से बचाए रखने और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में अहम भूमिका निभाता है। इसकी कमी से जनन शक्ति में कमी आती है।

लक्षण- शरीर में विटामिन ई की कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। मोटापा, थकान और तनाव इसके दूसरे लक्षण है। इसकी कमी को अंडे, सूखे, मेवे, बादाम, अखरोट, सूरजमुखी के बीज, हरी पत्तेदार सब्जियां, शकरकंद और सरसों को खाकर दूर किया जा सकता है।

“कुपोषण के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय”
“शरीर में आयरन की कमी के कारण, लक्षण और उपाय”
“जानिए हीमोग्लोबिन कम होने के कारण और लक्षण”

पिछला लेखकैसे करें दूसरों को इम्प्रेस
अगला लेखलीवर खराब होने के मुख्य लक्षण और कारण


Add a comment