जानिए देश के बड़े मंदिरों को मिलने वाली चढ़ावे की रकम कहाँ जाती है

हमारे भारत देश में कई ऐसे बड़े मंदिर जहां लाखों करोड़ों रुपए का चढ़ावा आता है लेकिन क्या आप जानते हैं मंदिरों को मिलने वाले इन चढ़ावों की रकम का क्या होता है और इस रकम को कहां इस्तेमाल किया जाता है ? आइए आपको बताते हैं देश के कुछ बड़े मंदिरों के बारे में और अपने चढ़ावों में मिलने वाली रकम को किन कामों के लिए इस्तेमाल करते हैं।

सिद्धिविनायक मंदिर

महाराष्ट्र के सिद्धिविनायक मंदिर की अपनी एक ट्रस्ट है और इस ट्रस्ट द्वारा मंदिर में होने वाली आमदनी का एक बड़ा हिस्सा महाराष्ट्र के किसानों के परिवार वालों की मदद के लिए दिया जाता है जो सूखे या मौसम की मार के चलते आत्महत्या कर चुके हैं। महाराष्ट्र सिद्धिविनायक मंदिर ट्रस्ट ऐसे परिवारों को आर्थिक मदद पहुंचाती है।

सिद्धिविनायक स्कॉलरशिप स्कीम

सिद्धिविनायक मंदिर द्वारा स्कॉलरशिप स्कीम भी शुरू की गई है जो मृत किसानों के बच्चों को आर्थिक मदद पहुंचाता है और उनकी पढ़ाई का पूरा खर्च वहां करता है ताकि मृत किसानों के बच्चे शिक्षा के अभाव में ना रहे और उन्हें बेहतर शिक्षा प्राप्त हो सके।

शिरडी साईं बाबा मंदिर

शिरडी में स्थित साईं बाबा के मंदिर में हर दिन करीब 60 लाख रूपए का चढ़ावा चढ़ता है इस हिसाब से इस मंदिर की सालाना आमदनी करीब 300 करोड रुपए से भी ज्यादा होती है और यह मंदिर भी अपनी आमदनी में से 50% हिस्सा दान और जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए देता है।
शिर्डी साईं बाबा संस्थान द्वारा अस्पताल शिक्षा, सड़क निर्माण, शिर्डी हवाई अड्डे के विकास और दूसरे सामाजिक कार्यों और गरीबों कि मदद के लिए दान दिया जाता है। इसके अलावा मुख्यमंत्री राहत कोष में भी कुछ हिस्सा मंदिर दान करता है।

पद्मनाभ मंदिर और तिरुपति बालाजी मंदिर

केरल का पद्मनाभ मंदिर देश का सबसे धनी मंदिर माना जाता है और वो तब हुआ जब यहाँ से करीब एक लाख करोड़ रुपए से भी ज्यादा की रकम का खजाना प्राप्त हुआ। लेकिन इससे पहले आंध्रप्रदेश स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर सबसे धनी मंदिर था। इस मंदिर की वार्षिक आमदनी है करीब ढाई हजार करोड़ रूपए। इस मंदिर के बारे में ऐसा माना जाता है की इसकी संपत्ति देश के सबसे बड़े व्यापारी मुकेश अम्बानी की संपत्ति से भी ज्यादा है। तिरुपति मंदिर में इतने कर्मचारी काम करते हैं की इन पर मंदिर के ट्रस्ट द्वारा सालाना करीब 695 करोड़ रुपए का खर्च होता है। इसके अलावा मंदिर की तरफ से कई चिकित्सा सेवा, शिक्षा और जरूरतमंदों पर बड़ी रकम दान दी जाती है।

अन्य मंदिर

देश के दूसरे बड़े मंदिर जैसे माता वैष्णो देवी, गुरुवायूर स्थित श्री कृष्ण मंदिर और सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा मंदिर इत्यादि द्वारा भी अपनी आय में से कई सामाजिक कार्यों और सहायता के लिए बड़ी रकम दान दी जाती है।

“भारत के सबसे अमीर मंदिर, इनकी संपत्ति जानकर दंग रह जायेंगे”
“दुनिया के 10 सबसे प्राचीनतम मंदिर”
“भारत के सबसे खूबसूरत शहर, एक बार यहां जरूर जाएं घूमने”
“यह है विश्व के सबसे भव्य गुरुद्वारे”

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment