जानिए पैर क्यों सो जाते है ?

ऐसा हम सब के साथ कई बार होता है की जब हम पैर मोड़ कर बैठे होते है और वो सो जाता है यानि उसमे तेज़ झनझनाहट होने लगती है। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है की इस क्योँ होता है ?? नहीं ना तो चलिए आज हम आपको बताते है की इस किस वजह से होता है।

यह सब कुछ हमारे नर्वस सिस्टम की प्रक्रिया है हमारा पूरा शरीर हमारे दिमाग से जुड़ा हुआ है जिसकी वजह से जब भी शरीर में कोई भी प्रतिक्रिया होती है तो यह सन्देश हमारी धमनियों के द्वारा दिमाग तक पहुँच जाता है। लेकिन अब आप सोच रहे होंगे की इसका आपके पैर के सोने से क्या लेना देना है तो आपको बता दें जब भी इन धमनियों पर दबाव पड़ता है तो इनका संपर्क दिमाग से टूट जाता है।

लेकिन जैसे ही यह दबाव हटता है तो यह धमनियां दिमाग को एक समय में कई सरे सन्देश भेजना शुरू करदेते है जिस वजह से वह पर सुई चुभने जैसी प्रतिक्रिया महसूस होने लग जाती है। यह एहसास ज़्यादा समय तक भी नहीं रहता है इसकी अवधी पांच से दस मिनट की होती है।

लेकिन अगर आपका पैर सो गया है तो इसका मतलब यह नहीं है की खून का दौरा ही रुक गया है। ऐसा बिलकुल नहीं है क्योँकि अगर खून का दौरा ही रुक गया तो आपका पैर ही ख़राब हो जाएगा। पैर का सोना एक शारीरिक प्रक्रिया है इसका खून के बहाव से कोई लेना देना नहीं है।

हम आशा करते है यह जानकारी आपके लिए ज्ञानवर्धक सिद्ध हुई होगी और आप इसे अपने मित्रों के साथ आवश्य साझा करेंगे।

Source

“जानिए कैसे काम करता है फिंगरप्रिंट स्कैनर”
“जानिए क्या है GST और क्या हैं इसके नुकसान और फायदे”
“जानिए SIP क्या है और क्या हैं इसके फायदे नुकसान”

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment