सजाए मौत के बाद जज क्यों तोड़ देते हैं पेन

आपने कई बार फिल्मों में देखा होगा कि जज सजाए मौत सुनाने के बाद अपना पेन तोड़ देते हैं। दरअसल असल में भी कोर्ट में यही होता है कि फांसी की सजा सुझाव सुनाने के बाद जज अपना पेन तोड़ देते हैं। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों किया जाता है क्यों पेन की निब क्यों तोड़ दिया जाता है ? तो चलिए आज हम आपको इस सवाल का जवाब बताते हैं।

आपको बता दें कि पेन की निब तोड़ना एक सिंबॉलिक एक्ट है ऐसा इसलिए किया जाता है कि यह किसी भी व्यक्ति के जीवन का अंतिम फैसला है और इस पैन को फिर दोबारा इस्तेमाल नहीं किया जाता। यह इस बात को भी दर्शाता है कि इस पेन की निब की तरह अब इस व्यक्ति का जीवन भी समाप्त हो गया है और इसके लिए अब कोई और सजा मुकर्रर नहीं की जाएगी। इसीलिए जज साहब पेन की निब को तोड़ देते हैं ताकि इस पेन का इस्तेमाल भी दोबारा ना किया जा सके।

सैद्धांतिक तौर पर यह माना जाता है कि मृत्युदंड के बाद और कोई दंड बचता ही नहीं है और यह जघन्य अपराधों में दिया जाता है। जब यह फैसला लिया जाता है तो डेथ लिखा जाता है और इस क्रम के बाद पेन की निब को तोड़ दिया जाता है ताकि इंसान के साथ साथ पेन की भी मृत्यु हो जाए। अक्सर यही माना जाता है कि शायद इस फैसले पर अब दुबारा विचार नहीं किया जा सके और इस सजा को भी अब सिर्फ राष्ट्रपति के अलावा और कोई माफ नहीं कर सकते है।

हम आशा करते हैं यह जानकारी आपकेलिए रोचक सिद्ध हुई होगी और आप इसे अपने मित्रों के साथ अवश्य शेयर करेंगे।

“क्यों लटकाये जाते हैं घर दूकान के बाहर नींबू-मिर्च, जानिए धार्मिक और वैज्ञानिक कारण”
“क्यों हो जाती है हमारी आंखें कमजोर, जानिए मुख्य कारण”
“जानिए क्यों जरूरी है शरीर को विटामिन डी और क्या हैं इसकी कमी के लक्षण”

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment