आतंकवादी AK 47 का ही इस्तेमाल क्यों करते हैं?

1537

जैसा कि हम सब जानते हैं कि आतंकवाद दिन प्रतिदिन अपनी जड़ें फैलता चला जा रहा है। ऐसा नहीं है कि आतंकवादी तकनीकी रूप से सक्षम नहीं है। आपको बता दें कि आतंकवादी पूर्ण रूप से सक्षम है और उनके पास अत्याधुनिक हथियार भी है। मुख्य तौर से आतंकवादी AK 47 बंदूक का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इसको इस्तेमाल करने के पीछे एक विशेष कारण भी जुड़ा हुआ है। तो चलिए इस बंदूक की विशेषता और उस विशेष कारण के बारे में जानते हैं।

आपको बता दें कि AK 47 का निर्माण किसी भी प्रयोगशाला में नहीं हुआ था और ना ही इस बंदूक का कोई ब्लूप्रिंट है। इस बंदूक का निर्माण अस्पताल में एडमिट एक व्यक्ति ने किया था और इस बंदूक का इस्तेमाल आज के समय में 106 देश कर रहे हैं।

इस बंदूक का निर्माण में मिखाइल ने 1947 में किया था उस समय मैं इस बंदूक का नाम ऑटोमेटिक राइफल रखा गया था नाम बड़ा होने की वजह से इसका नाम AK 47 रख दिया गया।

आप यह जान कर हैरान हो जायेंगे की AK 47 पानी के अंदर भी उतनी ही क्षमता से काम करती है और इसकी गोली की रफ़्तार भी पानी के भीतर धीमी नहीं होती और यह पानी के घर्षण बल से भी प्रभावित नहीं होती।

AK 47 एकमात्र ऐसी बंदूक है जिसे बनाना बहुत आसान है और इसकी दुनिया में कई प्रकार की नकल उपलब्ध है।

AK 47 को किसी भी मौसम में इस्तेमाल किया जा सकता है और यह 1 मिनट में दुश्मन का सफाया करने में सक्षम है।

अब आप सोच रहे होंगे कि यह बंदूक आतंकवादी इतना पसंद क्यों करते हैं?? इसकी उपलब्धता इतनी आसान है कि यह आतंकवादियों को आसानी से उपलब्ध हो जाती है और इसको चलाना भी बहुत आसान है इसीलिए आतंकवादी इसका इस्तेमाल करते हैं।

AK 47 सेमी ऑटोमेटिक और ऑटोमेटिक दोनों रुप से चलाई जा सकती है और इसकी गोली करीबन 400 मीटर दूर तक जा सकती है।

AK 47 के बाजार में और भी कई मॉडल उपलब्ध है जैसे AK 74, AK 103

AK 47 में इस्तेमाल की जाने वाली गोली करीबन 7.62 मिलीमीटर की होती है और यह 710 मीटर प्रति सेकंड की गति से चलती है।

“जानिए अन्य देशों में आतंकवादियों के साथ कैसा सलूक होता है”
“इन देशों के पास हैं सबसे ज्यादा परमाणु हथियार”
“दुनिया के सबसे सुखी और दुखी देश”

Add a comment