फोन उठाते ही क्यों बोला जाता है हेल्लो?

आइये जानते हैं फोन उठाते ही क्यों बोला जाता है हेल्लो। मित्रों यह बात तो हम सब जानते हैं कि मोबाइल का इस्तेमाल करने के दौरान जब भी हम कोई फोन रिसीव या कोई फोन करते हैं तो सबसे पहले जो शब्द बोलते हैं वह होता है हेल्लो।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि फोन उठाते ही क्यों बोला जाता है हेल्लो?

फोन उठाते ही क्यों बोला जाता है हेल्लो? 1

फोन उठाते ही क्यों बोला जाता है हेल्लो?

ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के अनुसार हेल्लो शब्द को जर्मन शब्द हाला से बनाया गया है। यानी कि यह शब्द पुराने फ्रांसीसी या जर्मन शब्द hola से निकला है। hola का मतलब होता है कि आप कैसे हैं।

आपको बता दें कि प्राचीन समय में इस शब्द का इस्तेमाल नाविक भी किया करते थे और 1380 के बाद से hola शब्द हेल्लो बन चुका था और उसके बाद यह शब्द शिकारियों और मल्लाहों के इस्तेमाल में बहुत आम रूप से आने लगा।

लेकिन आपको यह बात जानकर शायद अचम्भा हो कि जब ग्राहम बेल ने टेलीफोन का आविष्कार किया था उस समय हेल्लो की जगह Ahoy बोला जाता था।

टेलीफोन के आविष्कार करने वाले ग्राहम बेल 10 मार्च 1876 पेटेंट कराया था लेकिन कुछ लोगों का यह मानना है की हेल्लो के पीछे ग्राहम बेल की लवस्टोरी छुपी हुई है पर ऐसा नहीं है।

लोग यह कहते है की टेलीफ़ोन को पेटेंट कराने के बाद उन्होंने सबसे पहला फोन अपनी गर्लफ्रेंड मारग्रेट हैलो को किया था जिसे प्यार से वह हेलो बोला करते थे इसी लिए हेल्लो बोला जाता है। लेकिन आपको बता दें की उनकी गर्लफ्रेंड का नाम Mabel Hubbard था तो यह बात तर्क सांगत नहीं है।

शुरुआत में जब टेलीफोन का इस्तेमाल किया गया तो एहोय के बाद लोगों ने आर यू देअर बोलना शुरू किया। लेकिन यह शब्द इतना लंबा होता था कि वार्तालाप करने के लिए अधिक समय नहीं मिल पाता था। इसीलिए 1877 में हेलो बोलने का प्रस्ताव रखा गया और इस को सर्वसम्मति से मजबूत मंजूरी भी मिल गई।

उसी के बाद से हेलो बोला जाने लगा यह शब्द पूरे विश्व में सर्व व्यापक शब्द है और इसको आसानी से समझा जा सकता है। इसीलिए इस शब्द का चुनाव किया गया।

उम्मीद है जागरूक पर फोन उठाते ही क्यों बोला जाता है हेल्लो कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाएं?

जागरूक यूट्यूब चैनल