दुनिया के 10 ऐसे देश जहाँ बिना कैश होता है लेन देन

850

भारत में नोटबंदी के बाद मानों जैसे पूरे देश में अफरा तफरी मच गई है और ऐसा इसलिए है की हमारे देश में ज्यादातर काम और लेन देन कैश में होता है। लेकिन अगर हमारा देश पूरी तरह से डिजिटल होता तो ये समस्या नहीं होती।

अगर सभी काम नेटबैंकिंग या प्लास्टिक नोट जैसे डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड से होते तो हमारे सभी ट्रांजेक्शन कैशलेस होते और नोटों के लिए इतनी भागदौड़ नहीं करनी पड़ती। वहीँ दुनिया के कुछ ऐसे देश हैं जहाँ अधिकतर काम कैशलेस ही होते हैं जिस कारण वहां नोटों को लेकर कभी ऐसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ता।

हालाँकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस कदम से काफी हद तक हमारे देश में कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा मिलेगा लेकिन आज हम आपको बताते हैं उन देशों के बारे में जहाँ ज्यादातर ट्रांजेक्शन कैशलेस होते हैं।

बेल्जियम

बेल्जियम में 93% कैशलेस पेमेंट किये जाते हैं और 86% डेबिट कार्ड के जरिये पेमेंट होती है। बेल्जियम में भी कैश पेमेंट की लिमिट तय की गई है जिसके तहत सिर्फ 3000 यूरो तक ही कैश पेमेंट करने की इजाजत है अगर कोई ये क़ानून तोड़ता है तो उस पर 2 लाख 25 हजार रुपए तक का जुर्माना लग सकता है।

फ्रांस

फ्रांस में भी 92% कैशलेस पेमेंट किये जाते हैं और 69% डेबिट कार्ड के जरिये पेमेंट होती है। यहाँ भी कैश ट्रांजेक्शन की लिमिट है जिसके तहत 3000 यूरो से ज्यादा का कैश पेमेंट करना गैर कानूनी है। अगर कोई कार खरीदने के लिए 1500 यूरो का कैश पेमेंट करता है तो उसे कानूनी तौर पर उसका बिल पेश करना जरुरी है।

कनाडा

कनाडा ने भी 2013 से वहां के सिक्कों पर बैन लगा दिया था और यहाँ 90% कैशलेस पेमेंट किये जाते हैं और 88% डेबिट कार्ड के जरिये पेमेंट होती है। कनाडा में बहुत ही कम संख्या में कैश ट्रांजेक्शन की जाती है यहाँ अधिकतर ट्रांजेक्शन कैशलेस ही होते हैं।

यूके

यूके में भी 2014 में बसों में कैश पेमेंट पर रोक लगा दी गई थी और बसों में टिकट पैमेंट के लिए ओएस्टर कार्ड और प्रीपेड टिकट लागू कर दिए गए थे। यहाँ 89% कैशलेस पेमेंट किये जाते हैं और 88% डेबिट कार्ड के जरिये पेमेंट होती है।

स्वीडन

स्वीडन दुनिया का सबसे पहला कैशलेस ट्रांजेक्शन वाला देश माना जाता है यहाँ 89% कैशलेस पेमेंट किये जाते हैं और 96% डेबिट कार्ड के जरिये पेमेंट होती है। यहाँ 2008 के मुकाबले अब बैंकों में डकैती के मामले काफी कम हो गए हैं क्योंकि कैशलेस ट्रांजेक्शन के चलते बैंकों में कैश बहुत होता है।

ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलिया में करीब करीब हर ट्रांजेक्शन कैशलेस ही होता है, पेमेंट से लेकर कैब सर्विस तक सभी जगह कैशलेस पेमेंट का इस्तेमाल किया जाता है। यहाँ 86% कैशलेस पेमेंट किये जाते हैं और 79% डेबिट कार्ड के जरिये पेमेंट होती है।

नीदरलैंड

नीदरलैंड में भी ज्यादातर कैशलेस पेमेंट का ही इस्तेमाल होता है चाहे वो फार्मेसी हो, रीटेलर स्टोर हों या रेस्टोरेंट्स सभी पर कैशलेस पेमेंट स्वीकार किया जाता है। इतना ही नहीं पार्किंग प्लेस में तो कैश पेमेंट मंजूर ही नहीं किये जाता यहाँ पार्किंग के लिए भी कैशलेस पेमेंट सुविधा का इस्तेमाल होता है।

अमेरिका

अमेरिका में कैशलेस पेमेंट का इतना चलन है की कई शॉप्स में तो 100 डॉलर से ऊपर का पेमेंट कैश में स्वीकार ही नहीं किया जाता। अमेरिका में कैशलेस पेमेंट के लिए एप्पल से लेकर माइक्रोसॉफ्ट तक कई बड़ी कंपनियां वॉलेट सर्विस की सुविधा देती हैं।

जर्मनी

जर्मनी में लगभग हर सर्विस और दुकानों में कैशलेस पेमेंट ही स्वीकार किया जाता है, यहाँ पेमेंट के लिए कार्ड और वॉलेट्स का इस्तेमाल काफी ज्यादा किया जाता है।

साउथ कोरिया

हालाँकि साउथ कोरिया अभी तक पूरी तरह से कैशलेस पेमेंट को नहीं अपना सका है लेकिन यहाँ भी कई नीतियां लागू की गई हैं और कई प्रभावी नीतियों पर काम किया जा रहा है जिससे कुछ हद तक यहाँ कैशलेस पेमेंट का चलन बढ़ा है।

“ऐसे देश जिनके पास आज भी नहीं है खुद की सेना”
“दुनिया के 10 ऐसे देश जहां मिलता है सबसे सस्ता पेट्रोल”
“ऐसे देश जो सेफ्टी के लिहाज महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं हैं”

Add a comment