याददाश्त बढ़ाने के कारगर घरेलू तरीके

जून 3, 2017

अक्सर बढ़ती उम्र के साथ साथ याददाश्त कम होने लगती है लेकिन आज के समय में कम उम्र के लोगों में भी याददाश्त कम होने की शिकायतें बढ़ने लगी हैं। दरअसल आज के बढ़ते तनाव, ख़राब लाइफस्टाइल और खान पान, पर्याप्त नींद ना लेना आदि कई ऐसे कारण हैं जिनकी वजह से दिमाग पर बुरा प्रभाव पड़ता है और ये याददाश्त कमजोर होने का कारण बनते हैं। लेकिन अगर आप भी इस समस्या से जूझ रहे हैं तो कुछ घरेलु उपाय अपनाकर आप अपनी कमजोर याददाश्त को फिर से दुरुस्त बना सकते हैं। आइये जानते हैं इन घरेलू उपायों के बारे में जो याददाश्त बढ़ाने में बेहद सहायक हैं।

बादाम – दिमाग तेज करने और याददाश्त बढ़ाने में बादाम बहुत कारगर चीज़ है। इसके लिए 4-5 बादाम रात भर भिगो कर रख दें और सुबह उनके छिलके उतार कर उन्हें अच्छे से पीस कर उनका पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को एक गिलास गर्म दूध में मिला लें और साथ में इसमें एक चम्मच शहद भी मिला लें और नियमित इसका सेवन करें। ध्यान रखें इसको पीने के करीब 2 तक कुछ भी ना खाएं।

विटामिन से भरपूर आहार – विटामिन एक स्वस्थ शरीर के लिए बेहद आवश्यक तत्व हैं। विटामिन के अभाव में हमारे शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है साथ ही दिमाग के लिए भी विटामिन की कमी बेहद हानिकारक होती है और ऐसे में याददाश्त कमजोर होने की शिकायत होती है। ऐसे में ज्यादा से ज्यादा विटामिन वाली चीज़ें अपने आहार में शामिल करें जैसे ओट्स, हरी सब्जियां, खट्टे फल, सोयाबीन ऑयल आदि। शरीर में विटामिन की मात्रा भरपूर होने से तनाव भी कम होता है और एकाग्रता बढ़ती है।

सेब – सेब में पेक्टिन नामक एक ख़ास फाइबर पाया जाता है जो पाचन में सहायक प्रोटीन्स को बढ़ता है और साथ ही स्मरण शक्ति भी तेज बनाता है। ऐसे में तेज दिमाग के लिए प्रतिदिन एक सेब का सेवन जरूर करें इससे आपकी याददाश्त बढ़ेगी और साथ ही आप कई बड़ी बिमारियों से भी दूर रहेंगे।

हल्दी – यूँ तो हल्दी दादी के पुराने नुस्खों के तौर पर हमेशा काम आती है जो कई रोगों के इलाज में सहायक है और इसी के चलते हल्दी दिमाग के लिए भी काफी फायदेमंद होती है। हल्दी में कुरकुमीन नामक एक रासायनिक तत्व पाया जाता है जो दिमाग की ख़राब हो चुकी कोशिकाओं को फिर से तंदुरुस्त करता है और हमारा दिमाग तेज होता है और याददाश्त बढ़ती है।

दही – दही स्वास्थ्य की दृष्टि से बेहद लाभकारी होता है इसी लिए दही का नियमित सेवन करना चाहिए। दही प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा, खनिज, लवण, कैल्शियम और फॉस्फोरस से भरपूर होता है जिस कारण हमारे शरीर से हानिकारक जीवाणुओं नष्ट होकर फायदेमंद जीवाणुओं की वृद्धि होती है। साथ ही इसमें पाया जाने वाला अमीनो एसिड तनाव दूर करने और याददाश्त बढ़ाने में बेहद सहायक होता है।

योग और मेडिटेशन – नियमित योग और मेडिटेशन की आदत डालें इससे ना सिर्फ शरीर को बल्कि दिमाग को भी काफी लाभ होता है और कई बिमारियों से निजात मिलती है। मेडिटेशन से दिमाग तेज होता है, स्मरणशक्ति बढ़ती है और एकाग्रता भी बढ़ती है। इसलिए योग और मेडिटेशन को अपने रोज के दैनिक कार्यों का हिस्सा बनायें।

“किडनी की समस्या को दूर करने के प्राकृतिक इलाज, घरेलू तरीके”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

शेयर करें