थकान से दूर रखेगी आपको ये 8 आदतें

वर्तमान में जितनी तेजी से समय बदला है उतनी ही रफ्तार से जिंदगी की शैली भी बदली है। लोगों का रहन-सहन, खान-पान, मौज-मस्ती आदि में तुलनात्मक रूप से बहुत बदलाव आया है। ऐसे में रोजमर्रा के कामों की भागदौड़ और काम में अधिकता की मार से थकान का आना स्वाभाविक है। काम और आराम एक ही सिक्के के दो पहलू है। सुनहरे भविष्य के लिए जिस तरह काम करना जरूरी है ठीक उसी तरह अच्छे स्वास्थ्य के लिए आराम भी अनिवार्य है। वो कहते है ना अच्छा स्वास्थ्य ही सच्चा धन है। अगर आपकी सेहत अच्छी रहेगी तो आपको कभी थकान भी महसूस नहीं होगी। आधुनिकता के सांचे में खुद को परिवर्तित करना कोई गलत नहीं लेकिन सेहत के प्रति लापरवाह रहना बहुत बड़ी गलती है। यह लापरवाही शारीरिक रूप से ही नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी क्षति पहुँचाती है। सेहत के प्रति अनदेखी करने से कई बीमारियों का घर हो जाएगा यह शरीर, जिसके लिए आप दिन-रात मेहनत कर रहे है। समय की नज़ाकत को देखते हुए आज हम आपको आठ ऐसी आदतों से अवगत कराएँगे जो आपको थकान से दूर रखेगी और आप हमेशा खुद को तरोताजा फिल करेंगे।

तेजी से दौड़ती इस जिंदगी में लोगों के पास समय की बहुत कमी होती है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए आठ आसान और अच्छी आदतों की चर्चा हम इस लेख में करेंगे। जैसा की आप जानते है किसी भी अच्छी आदतों को अपनाने से पहले बुरी आदतों को त्यागना पड़ता है। आपने कई बार महसूस किया होगा पूरी रात अच्छी नींद के बाद भी कई बार सुबह उठते ही थकान सी महसूस होती है ऐसा क्यों होता है? शारीरिक ऊर्जा आपकी बुरी आदतों से लड़ने की पूरी कोशिश करती है लेकिन लंबे अंतराल से चली आ रही बुरी आदतें आपके शरीर की ऊर्जा को भी कमजोर कर देती है। दूसरा सबसे बड़ा कारण है स्वयं के प्रति लापरवाही। आपका मन जिस भी काम को करने की गवाही नहीं देता वो सब बुरी आदतें हैं। फिर चाहे वो देर तक जागना हो, अस्त-व्यस्त दिनचर्या हो, असंतुलित भोजन हो या कुछ भी।

तो आइए जानें वो आठ हेल्दी टिप्स क्या हैं जिसे अपनाकर आप थकान से दूर रहेंगे और स्वयं को हमेशा ऊर्जावान महसूस करेंगे।

1. सही जीवनशैली का चुनाव करे – जब दिनचर्या सही होगी तभी जीवनशैली सही रहेगी। जब दैनिक कार्यो का पालन सही तरीके से नहीं होता तब शरीर भी जवाब देने लगता है यानी थकान, उदासी, कमजोरी आदि। हमारा शरीर एक मशीन की तरह काम करता है जिस तरह मशीन की देखभाल रोजाना की जाती है ठीक उसी तरह शरीर का ख्याल भी रोजाना रखना पड़ता है। सदियों से यह बात चली आ रही है जल्दी सोना और जल्दी उठना। यह हम ही निर्धारित करते है की हमारा शरीर कैसे काम करेगा। यह दुनिया का सबसे बड़ा फेक्ट है क्योंकि इस शरीर के संचालक हम स्वयं है। दिनचर्या में अगर बार-बार फेर-बदल होता है तो हमारे शरीर के हार्मोन रिएक्शन करते है जिससे थकान महसूस होने लगती है। इसलिए आदत को बदलिए और खुद को सही दिनचर्या की आदत में ढालिए। रोजाना की रूटीन नियमित होनी चाहिए। कहने का तात्पर्य यह है की 6-8 घंटे की नींद अवश्य ले। सोने-उठने व खाने-पीने का जो भी समय आप स्वयं के लिए बनाए उसका नियमित पालन करे।

2. देर रात भोजन ना करे – संभव हो तो रात का खाना बिल्कुल हल्का ले। जिससे भोजन को पचने में समय नहीं लगेगा और आपको नींद भी समय पर आएगी। भारी भोजन अच्छी नींद में बाधा बनती है। जब नींद अच्छी नहीं होगी तो थकान तो आनी ही है। सोने से तीन घंटे पहले भोजन कर ले। अगर किसी कारण से आप घर देरी से पहुँचते है तो ऑफीस में ही कुछ हल्का भोजन कर ले। इससे आपकी सेहत भी बनी रहेगी और आपको ऊर्जा की कमी भी महसूस नहीं होगी। देर रात भोजन या देर रात की पार्टी से शरीर पर बुरा असर पड़ता है यह असर तुरंत नजर नहीं आता लेकिन एक लंबे समय के बाद शरीर प्रतिकूल प्रभाव जरूर दिखाता है। अच्छी सेहत और थकान फ्री जीवन के लिए कुछ समझौते तो करने ही पड़ते है, आखिर सेहत का सवाल है।

3. नियमित ध्यान और व्यायाम करे – अच्छी सेहत और थकान को दूर करने के लिए व्यायाम का कोई विकल्प नहीं बल्कि अनिवार्यता है। रोजाना ध्यान और व्यायाम करने से तन-मन स्वस्थ, फ्रेश और ऊर्जावान रहता है। रोजाना कम से कम 30 मिनट का व्यायाम जरूर करे इससे अतिरिक्त कैलोरी बर्न होती है और शरीर पूरे दिन की भागदौड़ के लिए ऊर्जावान रहता है। खून का प्रवाह पूरे शरीर में सुचारू रूप से होता है जिससे मानसिक और शारीरिक थकान व कमजोरी भी महसूस नहीं होती। इस आदत की नियमितता से नींद अच्छी आती है और शरीर भी फिट रहता है। रोजाना एक जैसा व्यायाम ना करे, व्यायाम में बदलाव करते रहने से संपूर्ण शरीर की कसरत हो जाती है जिससे एक स्वस्थ शरीर का निर्माण होता है और थकान कैसे गायब होती है यह तो आपको पता भी नहीं चलेगा।

4. कुछ हटकर करे – हर दिन एक जैसा कार्य करने से दिमाग असक्रिय हो जाता है, काम की गति धीमी हो जाती है और शरीर को थकावट महसूस होने लगती है। इसलिए दिमाग और शरीर की सक्रियता को बनाए रखने के लिए कभी-कभी कुछ हटकर करना जरूरी होता है जैसे कुछ देर के लिए काम से ब्रेक ले, कुछ देर टहलने जा सकते है, किसी से बातचीत कर ले जिससे मन हल्का महसूस करेगा, कोई स्टोरी पढ़ ले, गाने सुन सकते है, चाय या कॉफ़ी की चुस्की भी थकान दूर करती है, कुछ देर आँखे बंद करके गहरी साँसे ले इससे रक्त का प्रवाह सही होता है रक्तचाप और हार्टबीट नियंत्रित रहने से शरीर और मस्तिष्क को ऊर्जा मिलती है, कोई मनोरंजन से भरपूर वीडियो देखे या कुछ भी ऐसा करे जो आप कई दिनों से करना चाहते थे इससे आपका मन हल्का फील करेगा और आप पूरी ऊर्जा के साथ अपने काम पर ध्यान दे पाओगे।

5. व्यसन से दूरी भली – जब बुरी आदतें जीवन से जाएगी तभी तो वहाँ अच्छी आदतों की जगह होगी। हर व्यक्ति इस बात को भली भाती जानता है की व्यसन से शरीर बीमारी का घर बन जाता है। आज नहीं तो कल लत अपनी चपेट में शरीर को ले ही लेती है। शराब, सिगरेट, तंबाकू या कोई भी व्यसन हो इसकी आदत से शरीर की सक्रियता धीमी हो जाती है और शरीर धीरे-धीरे आलस और गंभीर बीमारी का शिकार हो जाता है ऐसे में थकावट का होना कोई आश्चर्य की बात नहीं। ऐसी लत चाहे शौक के लिए हो या अच्छी नींद के बहाने से हो, यह मजा तो दोनों को चखाती है। ऐसी लत के लिए बहाना चाहे जो भी हो यह व्यसन आपको अपने वश में कर ही लेती है इसलिए स्मार्ट बनिये और अपने मन को भटकने से रोकिए। क्योंकि जो थकावट प्राकृतिक रूप से होती है वो दूर की जा सकती है लेकिन जिस थकावट का कारण अप्राकृतिक हो वो चाहकर भी दूर नहीं की जा सकती।

6. तनाव से दूर रहने की कोशिश करे – वो कहते है ना चिंता, चिता समान होती है। यह सत्य है आज के इस युग में तनाव का ना होना संभव नहीं। लेकिन आप जरा सोचकर देखिए इससे आपकी समस्या का हल निकलता है? तनाव से शरीर धीरे-धीरे शक्तिहीन होने लगता है फिर भूख-प्यास और नींद गायब होती है अंत में यह हमें चूहे की तरह कूतरते हुए अंदर से खोखला कर देती है। कहने का मतलब यह है सभी समस्या की जड़ तनाव है। दुनिया का कोई प्राणी ऐसा नहीं जिसके पास समस्या नहीं है, इसलिए जब कुछ सोचे या चिंतन करे तो स्वयं को जरूर परखे की आप समस्या के हल के बारे में सोच रहे है या समस्या का तनाव ले रहे है। अगर आप सच में थकान से दूर रहना चाहते है तो आपको तनाव से दोस्ती तोड़नी पड़ेगी क्योंकि टेंशन आपको ना तो कुछ करने देगी और ना ही जीने देगी। अगर आप अपने तनाव को कम नहीं कर पा रहे तो किसी अच्छे दोस्त से सलाह ले या कोई ऐसा साथी जिससे आप अपनी बात शेयर कर सके उसे कहे या किसी काउन्स्लर की जल्दी मदद ले। यह हमेशा याद रखे चिंता किसी भी समस्या का हल नहीं हो सकती।

7. सेलफोन और कंप्यूटर से दूर रहना सीखे – आधुनिकता के नाम पर यह चीज़े हमारे समय को ही नहीं बल्कि शरीर को भी निगल रही है। जितना तेजी से इन चीजों का क्रेज बढ़ा है शायद ही दूसरी ऐसी कोई चीज हो जो इनका मोह छोड़ने को विवश करे। आज के समय में किसी की जेब में पैसा हो या ना हो लेकिन मोबाइल जरूर होगा। समय की मांग के साथ जीना गलत नहीं है लेकिन अनावश्यक इस्तेमाल आपको आलस और थकान से भर देगा। मोबाइल का यूज़ करते वक्त इंसान का पूरा ध्यान मोबाइल पर रहता है, इससे निकलने वाली नीली किरण आँखे और दिमाग के लिए बहुत ही खतरनाक होती है जो धीरे-धीरे शरीर को थका देती है और सुस्ती पैदा कर देती है। व्यक्ति शरीर के साथ दिमाग से भी कमजोर होने लगता है। रिसर्च के आधार पर भी इन चीजों से शरीर कई बीमारियों से भी घिर जाता है।

आज की फास्ट जिंदगी की कल्पना इन साधनों के बिना संभव तो नहीं लेकिन कोशिश करे की हर दो घंटे में कंप्यूटर से कुछ मिनटों का आराम ले। बेवजह फोन का उपयोग ना करे और सोने से एक घंटे पहले ही इन साधनों से दूरी बना ले, जिससे यह आपकी नींद में बाधा उत्पन्न ना करे। अगर आप ऐसा नहीं कर पा रहे है तो यह आपका आराम तो हराम करेंगे ही साथ ही आपकी थकान को भी बढ़ा देंगे।

8. खूब पानी पिए – प्रकृति का दिया हुआ ऐसा अनमोल वरदान जो सिर्फ हमें फायदा ही देता है नुकसान नहीं। जी हाँ हम पानी की बात कर रहे है। पानी की कमी से खून का लेवल कम हो जाता है जिससे थकान लगने लगती है। कम पानी पीने से डीहाइड्रेशन की समस्या भी हो जाती है, इसलिए खूब पानी पिए इससे शरीर हाईड्रेड रहता है। सर्दी हो या गर्मी पानी की मात्रा में कमी ना आने दे। गुनगुना पानी शरीर के लिए हर मौसम में अच्छा रहता है। आप चाहे कितना भी आराम कर ले अगर आप पानी नहीं पिएँगे तो आपकी थकान नहीं जाएगी। साथ ही कुछ ऐसे फलों और सब्जियों का सेवन भी कीजिए जिसमें पानी की मात्रा भरपूर हो।

दोस्तों, उपरोक्त टिप्स के अलावा एक बात हम और कहना चाहते है बाहरी भोजन, तले-भुने स्‍नैक्‍स, नमक और शुगर युक्त आहार और गरिष्ठ भोजन से बचे। पौष्टिक आहार, फल, जूस और सूखे मेवे आदि खाए इससे शरीर को ऊर्जा मिलती है और हाँ सुबह का नाश्ता करना कभी ना भूले। इन अच्छी आदतों को जीवन में उतारने की कोशिश करे, इससे आप हमेशा चुस्ती-फुर्ती महसूस करेंगे। फिर आप खुद अपने जीवन से थकान को अलविदा कहेंगे।

कई बार अधिक थकान किसी बीमारी का संकेत भी होता है। संभव उपाय के बाद भी अगर आपको आराम ना मिले तो डॉक्टर से सलाह ले क्योंकि किसी भी परिस्थिति में डॉक्टर से अच्छा कोई मार्गदर्शक नहीं होता। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल हमेशा करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे, हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है। हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“आपका जीवन नरक बना सकती हैं ये 5 बुरी आदतें”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।