येशी धोंडेन कौन है?

आइये जानते हैं येशी धोंडेन कौन हैं। भारत सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश के येशी धोंडेन को साल 2018 में पद्मश्री पुरस्कार से नवाज़ा गया। तिब्बती चिकित्सा शास्त्र में अभूतपूर्व योगदान के लिए उन्हें ये पुरस्कार दिया गया।

ऐसे में आप भी येशी धोंडेन से जुड़ी ख़ास जानकारी लेना चाहते होंगे। तो चलिए, आज आपको बताते हैं येशी धोंडेन के बारे में।

येशी धोंडेन कौन है?

येशी धोंडेन तिब्बती भिक्षु डॉक्टर हैं जिनका जन्म 15 मई 1927 को तिब्बत में हुआ। उनका परिवार परंपरागत तिब्बती चिकित्सा शास्त्र से अवगत था और येशी धोंडेन ने मात्र 20 वर्ष की उम्र में ही तिब्बती चिकित्सा की पढ़ाई पूरी कर ली।

1960 में उन्होंने मेन-त्सी-खांग यानि ‘तिब्बती चिकित्सा और ज्योतिष संस्थान’ की स्थापना की। इतना ही नहीं, 1960 से 1980 तक येशी धोंडेन दलाई लामा के निजी चिकित्सक भी रहे।

उन्होंने लम्बे समय से तिब्बती चिकित्सा पद्धति से बहुत से मरीजों का सफल इलाज किया है। उनके द्वारा तिब्बती चिकित्सा पध्दति दुनियाभर में पहचानी जाने लगी है। कैंसर जैसे असाध्य रोग का इलाज करने का दावा भी येशी धोंडेन करते हैं।

उनसे इलाज करवाने के लिए दूर-दूर से मरीज आया करते हैं। हर्बल दवाओं से इलाज करके येशी धोंडेन ने हजारों मरीजों को पूरी तरह स्वस्थ कर दिया है और हर्बल दवाओं के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया है।

उम्मीद है जागरूक पर येशी धोंडेन कौन है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाएं?

जागरूक यूट्यूब चैनल