योग करते समय जरुरी है ये सावधानियां बरतना

ये तो आप बखूबी जानते हैं कि योग करने से शरीर निरोगी बनता है और मन भी प्रसन्न रहने लगता है लेकिन आप ये भी तो जानते हैं ना कि अगर किसी भी काम की शुरुआत में ही, उस काम को करने के सही तरीके को समझ लिया जाये तो वो काम करना बहुत आसान हो जाता है और उससे कोई नुकसान भी नहीं होता बल्कि सिर्फ फायदा ही मिलने लगता है। ऐसा ही योग के बारे में भी कहा जा सकता है क्योंकि निरोगी शरीर देने वाली ये विधा अपनाने से पहले और इसे करने के दौरान कुछ सावधानियां रखना ज़रूरी होता है। ऐसे में क्यों ना आज, ये जानें कि योग करते समय किन बातों का ध्यान रखकर हम बेहतर परिणाम पा सकते हैं। तो चलिए, आज जानते हैं योग के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में–

अपनी क्षमता को पहचाने – योग करने के शुरुआत में ही आपको अपने शरीर की क्षमता का पता चल जाता है और उसी के अनुसार आपको आसन-प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए। अपनी क्षमता से ज़्यादा प्रयास करने और शरीर पर दबाव डालने की स्थिति में आप शरीर में खिंचाव ला सकते हैं और ऐसे में बदन दर्द और अकड़न महसूस होने लगेगी। इसके अलावा थकान का भी अनुभव होगा और जिस योग के ज़रिये आप स्वस्थ शरीर पाना चाहते हैं उसी योग को करने के बाद आप बोझिल और थका हुआ शरीर पाएंगे इसलिए अपने शरीर की क्षमता के अनुसार ही अभ्यास करें।

होड़ ना करें – अक्सर योग क्लास में बहुत से लोगों के बीच आसन करने के दौरान, आप ऐसा भी महसूस कर सकते हैं कि बहुत से लोग आपसे बेहतर कर रहे हैं। ऐसे में उनसे होड़ करने की ना सोचें क्योंकि ऐसा करने पर आप शरीर को चोटिल कर सकते हैं और मांसपेशियों में तनाव बढ़ा सकते हैं। हर व्यक्ति के शरीर की प्रकृति अलग-अलग होती है। किसी का शरीर लचीला होता है तो किसी का आसानी से मनचाहे आकार में नहीं मुड़ता। ऐसे में अपने शरीर के अनुसार ही अभ्यास करें।

ट्रेनर के निर्देशों का पालन करें – योग करने के कुछ समय बाद आप इससे जुड़ी सावधानियों से परिचित हो जाते हैं लेकिन शुरुआत में जल्दबाज़ी करने या अपने अनुसार योग करने का प्रयास ना करें क्योंकि अभी आप इस विधा से अनजान हैं। इस समय अपने ट्रेनर के हर निर्देश को अच्छे से समझकर उसका पालन करना ही बेहतर होगा, तभी आप सही तरीके से सही योग करना सीख सकेंगे जो आपकी सेहत को बेहतर बनाने में सहायक बनेगा।

खिंचाव को बढ़ने ना दें – नियमित रूप से किसी आसन को करने के दौरान, अगर आप अपने शरीर के किसी हिस्से में दबाव और खिंचाव महसूस करते हैं तो इस आसन को करने से बचें और इसके बारे में अपने ट्रेनर को ज़रूर बताएं। हो सकता है कि सम्बंधित आसन आपकी किसी शारीरिक समस्या को बढ़ा सकता हो। ऐसे में आपके ट्रेनर से आपको ये जानकारी मिल जाएगी कि आपको वो आसन करना चाहिए या नहीं, ताकि आप बिना तकलीफ उठाये योग का आनन्द ले सकें।

योग पूरे शरीर के लिए है – कई बार ऐसा होता है कि आप शरीर के किसी एक अंग या हिस्से से जुड़े आसन ही करते रहते हैं लेकिन लम्बे समय तक ऐसा करने से आप उस हिस्से को नुकसान पहुंचा सकते हैं क्योंकि योग पूरे शरीर को स्वस्थ रखने की कला है, ना कि किसी एक अंग को। ऐसे में वो सभी आसन करें जिनसे पूरे शरीर का व्यायाम हो और किसी एक हिस्से में खिंचाव आने की बजाये पूरा शरीर उस व्यायाम का आदि हो जाए ताकि पूरा शरीर एक्टिव होने लगे।

ये भी जानें – योग शुरू करने से पहले आप अपने ट्रेनर को अपने शरीर से जुड़ी समस्याओं के बारे में विस्तार से बताएं ताकि ग़लत आसन करने से आपके शरीर को क्षति ना पहुंचें। जैसे सर्वाइकल की स्थिति में, आगे की ओर झुकने वाले आसन बिलकुल नहीं करने चाहिए और प्रेगनेंसी के शुरुआती तीन महीनों में सरल आसन करने चाहिए जिनमें आगे झुकने वाले आसन नहीं होने चाहिए। इसी तरह पीरियड्स के दौरान महिलाओं को आसन करने के बजाये प्राणायाम करना चाहिए। इसी तरह शरीर से जुड़े रोगों को ध्यान में रखते हुए अगर योग किया जाएगा तो ये फायदेमंद साबित होगा।

वार्म अप जरूर करें – योग करने से पहले, शरीर को खिंचाव और दर्द से बचाने के लिए वार्म अप ज़रूर करना चाहिए। ऐसा करने से बॉडी फ्लेक्सिबल और एक्टिव होने लगती है और आसन लगाना आसान हो जाता है इसलिए योग से पहले 10-15 मिनट का वार्म-अप जरुरी है। इसके अलावा ये भी ध्यान रखें कि सरल आसन से धीरे-धीरे कठिन आसन की ओर बढ़ें, ना कि तुरंत कठिन आसन करने का प्रयास करें। धीरे-धीरे बॉडी इसकी अभ्यस्त होने लगेगी और निरंतर अभ्यास के बाद कुछ ही दिनों में आप कठिन आसन भी बहुत आसानी से कर पाएंगे इसलिए संयम के साथ आगे बढ़ें।

दोस्तों, योग की इस विधा से आप अपने तन-मन को स्वस्थ और आनंदित बना सकते हैं और अब आप ये भी जान चुके हैं कि योग करने के दौरान किन ग़लतियों को करने से बचना है और किस तरह धीरे-धीरे अपने प्रयासों को बढ़ाते हुए अभ्यास करना है। थोड़े दिन के प्रयासों के बाद, योग करना आपके लिए रोज़मर्रा के कामों की तरह आसान होता जाएगा इसलिए शुरुआती सावधानियों के साथ इस बेहतरीन काम की शुरुआत कर ही दीजिये।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“ये 5 योगासन बच्चों को कराएं, बच्चे बनेंगे बुद्धिमान”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।